संवाद सूत्र, मधुपुर : मधुपुर प्रखंड के नारायणपुर से बुढ़ई जाने वाला मुख्य पथ वर्षों से उपेक्षा का दंश झेल रहा है। करीब 14 किलोमीटर लंबी यह सड़क जर्जर और बेहाल स्थिति में है। इस सड़क से रोज सैकड़ों राहगीर गुजरते हैं। सड़क जर्जर होने के कारण आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। सड़क पर गिट्टी बिखरे हैं। बरसात के दिनों में हालत और भी खराब हो जाती है। ग्रामीण इस सड़क के निर्माण के लिए वर्षों से जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक पदाधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं। लेकिन अब तक उन्हें आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला है। ग्रामीण बताते हैं इस क्षेत्र के बच्चों को स्कूल, कालेज जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। गर्भवती महिला और बीमार लोगों को अस्पताल ले जाना काफी मुश्किल कार्य है। ऐसा नहीं है कि इस क्षेत्र से नेता व प्रशासनिक पदाधिकारी नहीं गुजरते हैं। सूबे के मंत्री हफीजुल हसन और सांसद डाक्टर निशिकांत दुबे द्वारा भी सड़क निर्माण का आश्वासन ग्रामीणों को दिया गया है। लेकिन इस सड़क का निर्माण अब तक नहीं हो पाया। ग्रामीण पंकज कुमार राय, अजय सिंह, वकील राय, सुधीर जायसवाल, किरण मंडल, सीताराम यादव, मुकेश कुमार यादव, शशि वर्णवाल, इंद्रदेव मंडल, सीताराम मंडल, सहदेव मंडल, मुकेश यादव, शीला देवी, खगिया देवी, फागू, घनश्याम यादव समेत दर्जनों ग्रामीणों ने इस सड़क का निर्माण कराए जाने की मांग स्थानीय जनप्रतिनिधियों व प्रशासनिक पदाधिकारियों से की है।

Edited By: Jagran