संवाद सहयोगी, सारठ (देवघर) : थाना क्षेत्र में साइबर क्राइम रुकने का नाम नहीं ले रहा है। कई स्थानों पर युवाओं को बकायदा प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। गिरोह का मास्टर माइंड ऐसे युवाओं से 30 से 40 प्रतिशत कमिशन का लालच देकर साइबर अपराध करने के प्रेरित करते है। जामताड़ा जिला के बाद देवघर जिला साइबर क्राइम के मामले में काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है। पुलिस की ओर से साइबर अपराध पर अंकुश लगाने की दिशा में लगातार कार्रवाई कर रही है।

साइबर अपराधियों पर नकेल कसने के लिए पुलिस प्रशासन की ओर से कवायद तेज कर दी गई है। 12 गांवों के 89 साइबर अपराधियों की संपत्ति की जांच अंचलाधिकारी से कराई जा रही है। इनमें गोबरसाला गांव के 07, नयाखरना के 32, झगराही के 16, अलकुसा के 01, जमुवासोल के 01, नवादा के 02, बारा के 03, समलापुर के 05, बसहाटांड के 06, महराजगंज के 02, फुलचुवां के 08 तथा घघरा गांव के 06 अपराधियों का नाम शामिल है।

बताया जाता है कि पिछले कुछ साल में ही साइबर क्राइम से इनलोगों ने काफी संपत्ति हासिल कर लगी। इसमें कई अपराधी ऐसे है कि जो पांच साल पूर्व मजदूरी कर गुजर बसर करते थे। वर्तमान समय में इनके पास आलीशान मकान, महंगी गाड़ी, फर्नीचर व अन्य ऐशो आराम के संसाधन मौजूद है। राजसी ठाठ-बाट देख पढ़ाई लिखाई करने वाले युवक भी इस धंधे में शामिल हो रहे है।

इस बाबत थाना प्रभारी विमल कुमार सिंह ने कहा कि साइबर अपराधियों का नए सिरे से प्रोफाइल तैयार किया जा रहा है। ऐसे भी आरोपितों पर पुलिस की नजर है। जिनके विरुद्ध थाने में मामला दर्ज नहीं हुआ है।

-------------

राजस्व कर्मचारी व कनीय अभियंता से अभी झगराही गांव के सूचीबद्ध आरोपितों की संपत्ति की जांच कराई जा रही है। उसके बाद सभी 12 गांवों में जांच कराई जाएगी। पाया गया है कि इसमें अधिकतर लोग बीपीएल परिवार से है। आज भी लोग बीपीएल का लाभ ले रहे है। अचानक इतना पैसा कहां से आ गया कि ये लोग अलिशान पक्का मकान, वाहन व अन्य सामान ले लिए है। आरोपितों की जमीन संबंधित दस्तावेज की भी जांच की जा रही है। उनके कमाई के साधन का भी पता लगाया जा रहा है। सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद रिपोर्ट उच्चाधिकारी को भेजा जाएगा।

साकेत कुमार सिन्हा, बीडीओ, सारठ

-----

साइबर क्राइम के चलते इलाके की काफी बदनामी हो रही है। ऐसे तत्वों पर पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है लेकिन अब साइबर को जड़ से खत्म करने को लेकर विभाग काफी तत्पर हो गई है। सभी थाने को निर्देश दिया जा चुका है।

एसडीपीओ अरविन्द कुमार सिंह, एसडीपीओ, सारठ

Posted By: Jagran