देवघर : जिप अध्यक्ष के आवास पर देवघर जिला परिषद सदस्यों की बैठक रविवार को को हुई। इसमें जिप अध्यक्ष के पति को मिले धमकी पत्र पर विस्तार से चर्चा किया।

सदस्यों ने कहा कि इस पर पुलिस प्रशासन एक सप्ताह के भीतर ठोस कार्रवाई नहीं करती है तो वे उग्र आंदोलन छेड़ने को विवश होंगे। उल्लेखनीय है कि स्थानीय डाकिया के माध्यम से जिप अध्यक्ष प्रतिनिधि अशोक राय को राजनीति छोड़ देने और चितरा खाली करने से संबंधित पत्र मिला था। पत्र में यह भी कहा गया था कि यदि ऐसा नहीं करते हैं तो परिवार सहित सबों का खात्मा कर दिया जाएगा। इसकी शिकायत स्थानीय थाने में की गई है। उनके समर्थकों ने सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करने की मांग पुलिस प्रशासन से की है। लेकिन इस दिशा में कोई ठोस कार्रवाई नहीं होने से जिला परिषद सदस्यों में आक्रोश गहराने लगा है। सबों ने एक स्वर में कहा है कि अगर सुरक्षा का इंतजाम नहीं किया गया तो वह लोग जिले में धरना-प्रदर्शन व उग्र आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। जिप उपाध्यक्ष संतोष पासवान ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। कहा कि तीन महीना होने को है। जिप अध्यक्ष रीता देवी को अंगरक्षक नहीं है। इस तरह का पत्र मिलने के पांच दिन बीतने पर भी पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं किया। जिप अध्यक्ष रीता देवी, कृषि मंत्री की सगी बहन है। इनकी सुरक्षा सरकार नहीं कर सकती है तो फिर आम जनता की सरकार सुरक्षा किस हद तक कर सकती है। हम सभी जिला परिषद के सदस्य परिवार का एक अंग है। पुलिस प्रशासन हमारी उपेक्षा करें, इसे हम बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं।

स्थानीय थाना के माध्यम से जिले के एसपी को सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करने की मांग करने जा रहे हैं। एक सप्ताह के भीतर ठोस कदम नहीं उठाया गया तो हम सभी आमरण अनशन करने पर उतर जाएंगे। धमकी भरा पत्र मिलने के इतने दिन बीत जाने पर भी पुलिस ने एक चौकीदार की प्रतिनियुक्ति भी नहीं की। हम सभी स्थानीय थाना के माध्यम से आवेदन देकर जिले के एसपी से मांग करने जा रहे हैं कि जिला परिषद अध्यक्ष रीता देवी को अंगरक्षक उपलब्ध कराया जाए। मौके पर जिप सदस्य प्रतिनिधियों में उमाशंकर मंडल, टिकेश्वर यादव, नरेंद्र नाथ तिवारी, किशोर दास, चिरंजीवी यादव, राकेश सिंह, मुकेश राय, रामनाथ यादव मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस