संवाद सूत्र, सारठ : उपायुक्त नैंसी सहाय के निर्देश पर गठित तीन सदस्यीय जांच टीम मंगलवार को सारठ प्रखंड मुख्यालय में नवनिर्मित प्रखंड सह अंचल भवन की गुणवत्ता की जांच की। जांच दल में भवन निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता एवं सहायक अभियंता शामिल थे।

जांच क्रम में संवेदक द्वारा भवन निर्माण में भारी अनियमितता बरते जाने की बात सामने आई है। जांच क्रम में पदाधिकारियों ने विभिन्न विभागों के पदाधिकारियों के कमरे से लेकर छत व दीवारों की जांच की और पाया कि बहुत कम समय में हीं जगह-जगह पर दीवारों में बड़ी-बड़ी दरारें पड़ चुकी हैं। ऐसा कोई कमरा नहीं जहां पानी का रिसाव नहीं हो रहा है। पदाधिकारियों ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए इससे संबंधित रिपोर्ट उपायुक्त को सौंपे जाने की बात कही।

बता दें कि तकरीबन 3.26 करोड़ की लागत से बने प्रखंड सह अंचल भवन के बनने के साथ हीं दीवारों एवं छतों से पानी रिसाव की खबर को जागरण ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। खबर प्रकाशित होने के बाद पूर्व विधायक उदय शंकर सिंह , जिप सदस्य सुरेंद्र रवानी, युवा नेता संतोष तिवारी ने जांच को लेकर आवाज उठाई थी। जिप सदस्य सह कांग्रेस नेत्री पिकी कुमारी ने भवन निर्माण में संवेदक द्वारा बरती गई अनियमितता की शिकायत उपायुक्त एवं उप विकास आयुक्त से करने की बात कही थी। उसी शिकायत के मद्देनजर जांच टीम गठित कर जांच कराई गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस