देवघर : राष्ट्रीय उपलब्धि जांच परीक्षा 13 नवंबर को जिले के 171 विद्यालयों में आयोजित की जाएगी। परीक्षा के सफल संचालन को लेकर विभागीय पदाधिकारी व कर्मी तैयारी को अंतिम रूप देने में जुटे हैं।

यह परीक्षा झारखंड के सभी जिलों में आयोजित की जा रही है तथा इसके परीक्षाफल के आधार पर राष्ट्रीय स्तर पर झारखंड की रै¨कग तय होगी। यही कारण है कि शिक्षा महकमे ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। जबकि सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को प्रखंड स्तरीय पर्यवेक्षक बनाया गया है। इस परीक्षा के माध्यम से पहली बार सरकारी विद्यालयों में अध्यनरत वर्ग तीन, पांच व आठ के बच्चे ओएमआर सीट पर परीक्षा देंगे। बताते चले कि 61-61 विद्यालयों में वर्ग तीन व पांच जबकि 49 विद्यालय में वर्ग आठ के बच्चें शामिल होंगे। कुल 3814 छात्र-छात्राएं इस परीक्षा में शामिल होंगे। परीक्षा के लिए चयनित 61 विद्यालयों में वर्ग तीन में नामांकित 1614 में 1246, 61 विद्यालयों में वर्ग पांच में नामांकित 1456 में 1176 तथा वर्ग आठ के लिए चयनित 49 विद्यालयों में नामांकित 2836 में 1392 छात्र-छात्राएं इस परीक्षा में शामिल होंगे। वीक्षक के तौर पर फील्ड इनवेस्टीगेटर भी तैनात रहेंगे। फील्ड इनवेस्टीगेटर के लिए निजी विद्यालय के शिक्षकों का चयन किया गया है।

--------------

नैस की परीक्षा काफी महत्वपूर्ण है। शांतिपूर्ण परीक्षा संचालन को लेकर सभी आवश्यक तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। यह परीक्षा जिले के 171 विद्यालयों में आयोजित की जाएगी।

छट्टू विजय ¨सह, जिला शिक्षा अधीक्षक, देवघर

Posted By: Jagran