संवाद सहयोगी, मोहनपुर : बिहार के सिमुलतला थाना क्षेत्र से अपहृत एक युवती को ढूंढ़ने के दौरान बुधवार की देर रात मोहनपुर थाना की पुलिस ने चोपामोड़ स्थित एक होटल के मालिक बमबम यादव समेत कई कर्मियों की धुनाई कर दी। पुलिस की पिटाई से बमबम यादव गंभीर रूप से घायल होकर बेहोश हो गए।होटल में काम करने वाला कर्मी बद्री यादव व रंजीत यादव को काफी चोट आई है।

पिटाई के बाद बमबम की गंभीर हालत को देखकर मोहनपुर थाना के थानेदार लक्ष्मी प्रसाद मंडल ने आनन-फानन में उसे रात में ही मोहनपुर सीएचसी इलाज के लिए ले गए जहां चिकित्सकों ने बेहतर इलाज के लिए देवघर रेफर कर दिया। थाना प्रभारी ने उसका इलाज कराने के बजाय परिजनों को सौंप दिया और कहा कि इलाज करा ले। इलाज में जो खर्च होगा दिया जाएगा। फिलहाल बमबम के परिजन जसीडीह स्थित एक झोलाछाप डॉक्टर से उसका इलाज करा रहे हैं।

गुरुवार को इस मामले को गंभीरता से लेते हुए देवघर के आरक्षी अधीक्षक पियूष पांडेय ने एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव को मामले की जांच करने का निर्देश दिया। गुरुवार को एसडीपीओ विकास चन्द्र श्रीवास्तव मौके पर पहुंच कर घटनाक्रम की जानकारी ली। सबसे पहले उन्होंने प्रभारी से जानकारी ली और इसके बाद वे घटनास्थल पर पहुंचे। वहां मौजूद परिजनों से घायल बमबम के बारे में जानकारी ली। परिजनों ने कहा कि कोरोना के कारण किसी अस्पताल में उसे भर्ती नहीं लिया गया इसलिए जसीडीह स्थित एक झोलाछाप डॉक्टर से इलाज कराया जा रहा है। एसडीपीओ ने परिजनों से बमबम वहां से लाने को कहा और उसे जसीडीह से लाया गया। इसके बाद एसडीपीओ ने जैसे ही घायल बमबम से पूछताछ शुरू की वह बेहोश होकर गिर गया। एसडीपीओ ने पुन: परिजनों को देवघर स्थित सदर अस्पताल में इलाज कराने की सलाह दी।

एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि मामले की जांच रिपोर्ट आरक्षी अधीक्षक को दी जाएगी और उसी के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप