देवघर : देवघर के युवाओं में आ‌र्म्स को लेकर लगातार क्रेज बढ़ता जा रहा है। आज शहर में बहुत से युवा शौक से पिस्टल रखने लगे हैं। यही यहां के बढ़ते अपराध का मुख्य कारण भी है। यह पुलिस के लिए ¨चता का विषय है। अब पुलिस इस मसले को काफी गंभीरता से ले रही है। एसडीपीओ विकासचंद्र श्रीवास्तव ने बुधवार को नगर थाने में पीसीआर व सैट टीम के सदस्यों को उनके दायित्वों के बारे में बताया। उन्होंने बाद में कहा कि हथियार के सप्लायर्स को पकड़ने के लिए विशेष मुहिम चलाई जाएगी। इस मुहिम के तहत पिछले दस वर्षों में आ‌र्म्स एक्ट के तहत पकड़े गए आरोपितों का रिकार्ड खंगाला जाएगा। पुलिस अब उनकी गतिविधि पर करीबी नजर रखेगी। इसके साथ ही देवघर में हथियार कहां से आ रहा है इस बारे में भी पुलिस सक्रियता से काम करेगी। इस मामले में कुछ नाम सामने आए हैं और उनके बारे में छानबीन शुरू कर दी गई है। आ‌र्म्स के सप्लाई को कम करके ही अपराध पर अंकुश लगाना संभव है। इसके साथ ही समय-समय पर अपराध नियंत्रण के दृष्टिकोण से विशेष चे¨कग अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान गाड़ी की डिक्की व उसपर सवार लोगों का बॉडी सर्च करने का निर्देश दिया गया है। इस काम में सैट व सीसीआर टीम को भी सहयोग करना है।

लागू होगा टाउन सि¨लग प्लान

शहर में टाउन सि¨लग प्लान लागू किया जाएगा। इसका मकसद होगा कि शहर में जब कोई अपराध होता है तो उन रास्तों को तत्काल सील कर दिया जाए, ताकि अपराधी बाहर जा सके। इसके लिए योजना तैयार हो रही है और सभी महत्वपूर्ण जगहों को चिहिन्त किया जा रहा है। हॉट स्पॉट व हॉट टाइम पर फोकस

पुलिस अब हॉट स्पॉट व हॉट टाइम का डाटा बेस तैयार कर रही है। इसके तहत यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि शहर के किन इलाकों में किस तरह का अपराध किस समय होता रहा है। इसकी पहचान हो जाने के बाद इस इलाकों में पुलिस का फोकस अधिक होगा। इसके तहत आम लोगों से भी सूचना इक्ट्ठा की जाएगी। वहीं होटल के अलावा यहां बहुत से लॉज व आश्रम हैं जहां बाहर से लोग आकर ठहरते हैं। इन जगहों पर भी समय-समय पर अपराध नियंत्रण के उद्देश्य से जांच अभियान चलाया जाएगा। सीसीटीवी लगाने की होगी पहल

शहर में अधिक से अधिक जगहों पर सीसीटीवी लगाने की दिशा में पहल की जाएगी। एसडीपीओ ने कहा कि इसमें यहां के कारोबारियों व आम लोगों से भी मदद ली जाएगी। स्वर्ण कारोबारी, कपड़ा कारोबारी, होटल, स्टोर आदि के मालिकों से संपर्क कर उन्हें सीसीटीवी लगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। कैमरा कुछ इस तरह से लगाया जाएगा ताकि सड़क पर दूर तक नजर रखी जा सके। इसकी पूरी जानकारी थाने में होगी। जब भी कोई बड़ी घटना होगी उस दौरान अपराध नियंत्रण में इन कैमरों का फुटेज मददगार साबित होगा। किराएदारों का पुलिस सत्यापन आवश्यक

अब शहर में अगर कोई किराएदार रखता है तो उसका पुलिस सत्यापन कराना आवश्यक है। क्योंकि अगर कोई अपराध होता है और पता चलता है कि अपराधी किसी के घर में किराए पर रह रहा था और उसके बारे में पुलिस को सूचना नहीं दी गई थी तो मकान के मालिक पर कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही पुलिस अब शहर में किराए के मकानों पर चल रहे लॉज पर भी खास नजर रखेगी। इस काम में सैट व पीसीआर की टीम थाने का सहयोग करेगी। घर बंद रहे तो थाने में दें सूचना

अगर कोई घर बंद कर बाहर जाता है तो इसकी सूचना थाना में दे दें। ताकि पुलिस जब गश्त पर निकले तो उन घरों पर नजर रख सके। क्योंकि देखा गया है कि बंद घरों का ताला तोड़कर चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया जाता है। वहीं यहां बाहर के चोर गिरोह का रिकार्ड भी खंगाला जा रहा है। ताकि इनके खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई की जा सके। थानों को दिया जाएगा टास्क

एसडीपीओ ने कहा कि पुलि¨सग के तरीके को बदला जाएगा। अब सभी थानों को टास्क दिया जाएगा। इसकी मॉनीट¨रग हर सप्ताह होगी। टास्क पूरा करने के लिए समय सीमा निर्धारित की जाएगी। तय समय में पूरा करना होगा। समीक्षा के दौरान यह देखा जाएगा कि जो जिम्मेदारी दी गई है उसमें कितना काम हुआ है। साथ ही पुलिस व जनता के बीच बेहतर तालमेल कायम करने की दिशा में भी पहल की जाएगी। शहर के विभिन्न मोहल्लों में मोहल्ला सुरक्षा समिति का गठन किया जाएगा। लोगों को वाट्सएप ग्रुप से जोड़ा जाएगा ताकि सूचनाओं का आदान-प्रदान बेहतर तरीके से हो सके। सीसीआर व सैट की जिम्मेदारी बढ़ी

सीसीआर व सैट टीम की जिम्मेवारी बढ़ गई है। उन्हें अब काफी डाटा जमा करना होगा। एटीएम, बैंक, बड़े दुकान, व्यवसायिक प्रतिष्ठान में जहां गार्ड है उनका नाम व नंबर लेना है। किन जगहों पर सीसीटीवी कैमरा लगा है और कितना है इसका आंकड़ा इक्ट्ठा करना है। यह रिकार्ड वे एक रजिस्टर में दर्ज करेंगे। वहीं सभी को अपराधियों की सूची दी जाएगी। उन पर उन्हें लगातार नजर रखना है। साथ ही साथ शहर में संदिग्ध लोगों पर खास नजर रखने का निर्देश दिया गया है। साथ ही प्रतिदिन के डेवलपमेंट की जानकारी वरीय अधिकारियों को देना है। दो पर सीसीए का प्रस्ताव

पुलिस अब संदिग्ध लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने की मूड में नजर आ रही है। एसडीपीओ ने बताया कि विशाल मंडल व सचिन मिश्रा के खिलाफ सीसीए की धारा 12 के तहत कार्रवाई करने के लिए प्रस्ताव भेजा जाएगा। ऐसे तत्वों की पहचान की जा रही है। अभी और भी लोगों पर सीसीए के तहत कार्रवाई की जाएगी। ये कार्रवाई अपराध नियंत्रण के ख्याल से किया जा रहा है।

Posted By: Jagran