देवघर : शारदीय नवरात्र की महासप्तमी के अवसर पर शनिवार को प्रदेश की सांस्कृतिक राजधानी देवघर स्थित पूजा पंडाल और मंदिरों का पट श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिया गया। बाबा नगरी में चारों ओर दुर्गा सप्तशती का पाठ हो रहा है। घड़ीदार घर, भीतरखंड, देवसंघ, हरदलाकुंड, बरमसिया, बेलाबगान, सत्संग नगर, बिलासी, आरएल सर्राफ, कृष्णापुरी, रांगा मोड़, गौशाला समेत अन्य पूजा पंडाल व मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है।

वहीं बाबा मंदिर स्थित दुर्गा मंडप में सरदार पंडा गुलाबनंद ओझा ने तांत्रिक विधि से माता की पूजा अर्चना की। स्टेट पुरोहित श्रीनाथ मिश्र, उपचारक भक्तिनाथ फलाहारी, गोपाल महाराज, संजय मिश्र ने भी माता की विशेष पूजा अर्चना की। पूजा के पूर्व शिवगंगा तालाब में माता को महास्नान कराकर डोली में बिठाकर दुर्गामंडप लाया गया। रविवार को महाष्टमी के अवसर पर माता की विशेष आराधना की जाएगी। इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं और माता के चरणों में परिवार के सुख और समृद्धि की मनोकामना के साथ डलिया अíपत करती हैं।

रंगबिरंगी रोशनी से पटा देवघर : शहर में दुर्गापूजा का रंग दिखने लगा है। पूजा-पंडालों को रंगबिरंगी रोशनी से सजाया गया है। झौंसागढ़ी पूजा समिति, नीचे बिलासी पूजा समिति, श्रीकृष्णापुरी सार्वजनिक पूजा समिति, वैष्णवी दुर्गा पूजा समिति, आरएल सर्राफ पूजा समिति, महास्वास्तिका सार्वजनिक दुर्गापूजा समिति, ऊपर बिलासी, बीच बिलासी, कास्टर टाउन सार्वजनिक पूजा समिति के अलावा बरनवाल धर्मशाला समेत अन्य स्थानों पर बने पंडाल आकर्षक तरीके से सजाए गए हैं। वहीं मुख्य सड़कों पर आकर्षक रंगबिरंगे बल्ब भी लगाए गए हैं।

सारवां-सारठ व जसीडीह में भी धूम : विशनपुर गढ़ मंदिर, सार्वजनिक वैष्णवी दुर्गा मंदिर, दुखिया नाथ महादेव मंदिर, लखोरिया स्टेट मंदिर, भैया पाड़ा, भैयाडीह गिधंड़ा, बधनी, डुमरिया आदि मंदिरों में भक्तों की पूजा-अर्चना के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। वैष्णवी दुर्गा मंदिर में बनाया गया पंडाल श्रद्धालुओं को आकर्षित करने से नहीं चूक रहा। जसीडीह के मुख्य बाजार, पुनासी, संताली, खोरीपानन, संग्राम लोढि़या, कोठिया, देवपुर, सरसा, भलुआ, रोहिणी आदि स्थानों पर दुर्गा पूजा को लेकर विशेष चहल-पहल देखी जा रही है। सार्वजनिक दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष ने बताया कि अष्टमी से लेकर दशमी तक श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। इसके लिए विशेष तैयारियां की गई है। महिलाओं और बच्चों के सुरक्षा के लिए खास इंतजाम किए गए हैं। समिति की ओर से शांतिपूर्ण वातावरण में दर्शन और पूजन करने की अपील की गई है। देवीपुर मुख्यालय समेत ग्रामीण इलाकों में उत्सव सा नजारा देखने को मिल रहा है। देवीपुर, हुसैनाबाद, भोजपुर, तिलौना, बंदगारी, भैसिया, लालोडीह, गोसलीडीह, पहाड़पुर आदि गांव में मंदिर और पंडाल का पट खुलते ही श्रद्धालु माता के दर्शन करने पहुंचने लगे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस