जागरण संवाददाता, देवघर : नगर थाना क्षेत्र के बावनबीघा मोहल्ला स्थित एक मकान में सोमवार को एक निजी मोबाइल कंपनी का टावर लगाने के सवाल पर दो पक्षों में हिंसक झड़प हो गई। वर्षो से साथ-साथ रहनेवालों के बीच मोबाइल टावर ने ऐसी खटास पैदा कर दी कि स्थिति मारपीट तक जा पहुंची। स्थिति नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। आखिरकार टावर लगाने का काम रोकना पड़ा। फिलहाल स्थिति शांत है।

सोमवार को मोहल्ले की रूबी देवी के मकान की छत पर मोबाइल का टावर लगाया जा रहा था। उसके घर के समीप ही मां ललिता हॉस्पिटल, रेडरोज स्कूल, एसजे एकेडमी, ब्लू बेल्स स्कूल सहित कई कोचिंग सेंटर चलते हैं। मोबाइल टावर का विरोध कर रहे मोहल्ला के सुरेश साह, दिलीप कुमार गुप्ता, राम कुमार सिंह, ओंकार नाथ, संगीता सिंह, बबलू सिंह, प्रीतम जैन, वशिष्ठ नारायण सिंह का कहना है कि मोबाइल टावर से हानिकारक विकिरण निकलते हैं जिससे बच्चों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। जिस मकान की छत पर टावर लगाया जा रहा है, वह काफी जर्जर हालत में है। ऐसे में टावर के गिरने से जान माल का नुकसान हो सकता है। पहले भी टावर निमार्ण कार्य बंद कराया गया था। कुछ दिनों से चोरी-छिपे टावर लगाने का काम हो रहा है। इधर मकान मालकिन रूबी देवी का कहना है कि उनके मकान में निजी कंपनी का मोबाइल टावर लगाया जा रहा है। इसके लिए सभी प्रक्रियाएं पूरी कर ली गई। टावर लगाने के लिए एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) भी ले लिया गया है। इसकी सूचना नगर थाना को भी लिखित रूप में दे दी गई है। विरोध करने पहुंचे कुछ लोगों ने काम कर रहे मजदूरों के साथ मारपीट की और काम बंद करा दिया। विरोधी पक्ष की ओर से टावर निर्माण कार्य को बंद कराने को लेकर उपायुक्त को आवेदन सौंपा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप