कुंदा : कुंदा थाना क्षेत्र के डोकवा गांव में बुधवार की सुबह विद्युत प्रवाहित तार की चपेट में आने से 22 वर्षीय युवक की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। मृतक युवक 22 वर्षीय रोहित कुमार गांव के द्वारिका यादव का पुत्र था। युवक की मौत के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए और पावर सब स्टेशन में ताला बंदी कर दी। इसके बाद सड़क को जाम कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार डोकवा गांव में पिछले तीन माह से बिजली नही थी। अचानक बिजली आने से युवक की मौत हुई। ग्रामीणों ने बताया कि बिजली का तार टूटकर गिरा हुआ था। युवक टूटे हुए तार के पास खड़ा था। अचानक बिजली आपूर्ति शुरू हो गई और युवक बिजली के संपर्क में आ गया। जबकि लोग समझ पाते, तब तक काफी विलंब हो चुका था। घटना की जानकारी मिलने के बाद युवक का पिता भी वहां पहुंचे। वहां पर पहले से मौजूद ग्रामीणों की सजगता के कारण वह बाल-बाल बच गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि यदि लोग सजग नहीं होते वह भी टूटे हुए विद्युत प्रवाहित तार के संपर्क में आ जाते। ग्रामीणों ने बताया कि टूटे हुए तार की जानकारी विद्युत आपूर्ति के अधिकारियों एवं कर्मियों को कई बार दी गई। लेकिन इस दिशा में उनके द्वारा कोई कार्रवाई नहीं हुई। परिणाम यह हुआ कि एक युवक की जान चली गई। ग्रामीणों ने इसकी सूचना कुंदा थाना को दी। पुलिस दल बल के साथ घटना स्थल पर पहुंची और लेकिन ग्रामीणों ने शव को उठने नहीं दिया। उनका कहना था कि जब तक मुआवजा की राशि नहीं मिलेगी, तब तक शव को नहीं उठने दिया जाएगा। इसके बाद ग्रामीण शव को लेकर कुंदा चौक आ गए और सड़क को जाम कर दिया। जिससे कुंदा-प्रतापपुर और कुंदा लावालौंग पथ का आवागम पूरी तरह से ठप हो गया। बाद में विद्युत आपूर्ति के कार्यपालक अभियंता ने मृतक के परिजन को उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। आश्वासन के बाद जाम को हटा लिया गया।

Posted By: Jagran