कथारा (बेरमो) : सीसीएल की कथारा वाशरी में कई वर्षों के बाद स्लरी की रोड सेल पुन: खुलने वाली है। उस सेल में 136 दंगल के मजदूरों को स्लरी लदाई का कार्य मिलना चाहिए। पेलोडर से स्लरी की लदाई नहीं होने दी जाएगी। मजदूरों के साथ नाइंसाफी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यह बातें रविवार को राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ (राकोमसं) के कथारा क्षेत्रीय सचिव वरुण कुमार सिंह ने कथारा वाशरी के स्लरी पाउंड परिसर में मजदूरों के साथ बैठक करते हुए कही। उन्होंने कहा कि यहां स्लरी की रोड सेल चालू करने की मांग बहुत दिनों से की जा रही थी। अब प्रबंधन ने आफर भेजा है तो स्लरी के उठाव के लिए पेलोडर का उपयोग कराने की बात प्रबंधन कह रहा है। ऐसा करके मजदूरों से काम छीनने का प्रपंच किया जा रहा है, जो किसी भी हाल में सफल होने नहीं दिया जाएगा।

राकोमसं के रीजनल अध्यक्ष इसराफील अंसारी उर्फ बबनी ने कहा कि प्रबंधन से बात की जाएगी कि यदि पेलोडर से स्लरी लदाई कराई जाएगी तो विरोध किया जाएगा। मजदूरों का ख्याल रखा जाए। सभी दंगल के मजदूरों को काम मिलना चाहिए। प्रबंधन को हैंड लोडिग का आदेश देना होगा। यहां जो भी मजदूर पूर्व से स्लरी लदाई के कार्य करते रहे हैं, वह सभी लोग विस्थापित व स्थानीय ग्रामीण हैं। उनके साथ प्रबंधन को अन्याय नहीं करने दिया जाएगा। असंगठित मजदूर कांग्रेस के नेता संतोष कुमार आस ने कहा कि जिन लोगों ने अपनी जमीनें देकर कथारा कोलियरी एवं वाशरी को स्थापित कराया। उन्हीं ग्रामीणों व विस्थापितों से रोजगार छीनने का काम प्रबंधन कर रहा है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सीसीएल प्रबंधन हैंड लोडिग के माध्यम से स्लरी उठाव का आदेश निर्गत करे, ताकि यहां के लोगों को रोजगार मिल सके। बैठक का संचालन मुर्शिद अंसारी ने किया। मौके पर रामेश्वर यादव, सुरेंद्र सिंह, वकील अंसारी, इम्तियाज अंसारी, हमीद अंसारी, अमरजीत कुमार, गुड़िया देवी, आमना खातून, आशा देवी, रवींद्र यादव, झुपरी देवी, संजोती देवी, गौरी देवी, जावेद अख्तर, शकील अंसारी आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran