सुरही (बेरमो) : नावाडीह थाना क्षेत्र के बरमसिया ग्राम निवासी तुलसी महतो (35) की मौत रविवार की सुबह संदेहास्पद स्थिति में हो गई। उनकी मौत के बाद तरह-तरह की चर्चा है। मां पनवा देवी सहित भाइयों का कहना है कि तुलसी महतो ने रस्सी के सहारे फांसी पर लटककर आत्महत्या कर ली, जबकि बोकारो में रहकर पढ़ाई कर रहे मृतक के पुत्र मिथिलेश कुमार एवं पुत्री नीतू का कहना है कि जिस जगह पिता की फांसी लगाने की बात बताई जा रही है, वहां संभव नहीं है। उनके पिता को साजिश के तहत हत्या कर लटका दिया गया है। नावाडीह थाना प्रभारी अनिल उरांव एवं सअनि कमलेश सिंह पुलिस बल के साथ बरमसिया ग्राम पहुंचे। घटना की जानकारी ली और शव को जब्त कर पोस्टमार्टम के लिए चास भेज दिया।

थाना प्रभारी उरांव ने कहा कि इस मामले में फिलहाल यूडी केस दर्ज किया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। मृतक की पुत्री नीतू ने बताया कि वह अपने भाई के संग 14 जुलाई को बोकारो गई थी। रविवार की सुबह उसके चाचा ने फोन कर सूचना दी कि उसके पापा ने फांसी लगाकर जान दे दी। सूचना पाकर दोनों भाई-बहन तुरंत बरमसिया पहुंचे तो पिता को एक खाट पर मृत पड़ा पाया। नीतू ने बताया कि जिस जगह उसके पापा के आत्महत्या करने की बात कही जा रही है, वहां आत्महत्या करना संभव नहीं हैं। दीवार में लगी एक कील के सहारे रस्सी बांधकर आत्महत्या करने की बात बताई जा रही है, जबकि कील व दीवार पर कोई निशान नहीं है। दीवार से सटे एक पलंग व खराब पड़ी मोटरसाइकिल भी है। ऐसे में फांसी लगाकर आत्महत्या नहीं की जा सकती। घर के दूसरे कमरे में मौजूद मृतक की पत्नी कौशल्या देवी घटना के बाद बार-बार बेहोश हो जाने कारण कुछ नहीं बता पा रही थी। सूचना पाकर डुमरी विधायक जगरनाथ महतो, डुमरी प्रखंड की प्रमुख यशोदा देवी, चपरी पंचायत के मुखिया गौरीशंकर महतो, किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष लोकेश्वर महतो आदि मृतक के घर पहुंचे और घटना के बारे में जानकारी ली।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप