संवाद सहयोगी, बोकारो: केंद्र व राज्य सरकार की गलत नीतियों के विरोध में बुधवार को वामपंथी पार्टी सीपीआइ, सीपीआइएम, भाकपा माले व मासस ने संयुक्त रूप से उपायुक्त कार्यालय के पास धरना दिया। उपस्थित लोगों ने केंद्र व राज्य सरकार की गलत नीतियों के कारण देश में व्याप्त भयानक आर्थिक मंदी महंगाई, सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों की बिक्री निजीकरण, बेरोजगारी, किसानों बदहाली व श्रम कानूनों में बदलाव व कारखानों से मजदूरों की छंटनी का विरोध किया।

वक्ताओं ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार जनता की गाढ़ी कमाई को बर्बाद कर रही है। इसलिए देश में आर्थिक मंदी हो गई है। उन्होंने सरकार से बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने की मांग की। कहा कि मजदूरों को कम से कम न्यूनतम मजदूरी के रूप में 18 हजार रुपये मिलने चाहिए। साथ ही उन्होंने सेल का निजीकरण बंद करने की बात कही। कहा कि वृद्धा पेंशन को बढ़ाकर तीन हजार रुपये करना चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता सीपीआइएम के जिला सचिव बीडी झा व संचालन सीपीआइ के पीके पांडेय ने किया। मौके पर सीपीएम के रामचंद्र ठाकुर, श्याम सुंदर महतो, सीपीआई के राजेंद्र प्रसाद यादव, पंचानन महतो, भाकपा माले के देवदीप सिंह दिवाकर, बालेश्वर गोप व विश्वनाथ बनर्जी, श्याम बिहारी सिंह दिवाकर, स्वयंकर पासवान, दिवाकर महतो, जेएन सिंह, आइडी सिंह, हीरालाल रजवार, आफताब आलम, इस्लाम अंसारी आदि उपस्थित थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस