बोकारो : त्रिसप्तिका की ओर से आशालता केन्द्र के हेलन केलर सभागार में डांस क्वीन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सम्मानित अतिथि ओएनजीसी ऑफिसर्स महिला समिति की अध्यक्ष सांत्वना पाल ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि आज के दौर में जितनी अहमियत शिक्षा की है, उससे किसी भी कीमत पर कला और संगीत का महत्व कम नहीं है। बच्चों को पढ़ाई- लिखाई के साथ-साथ कला के क्षेत्र में भी प्रोत्साहित किया जाना आवश्यक है। इससे उनका मानसिक विकास और संपूर्ण व्यक्तित्व का निर्माण होता है। संस्था की निदेशक अंकिता चक्रवर्ती ने अतिथियों का स्वागत किया।

बच्चियों ने बिखेरी सांस्कृतिक छटा

डांस क्वीन प्रतियोगिता में भाग लेकर बच्चियों ने जबर्दस्त सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया। उन्होंने नृत्य के माध्यम से अपने कौशल का प्रदर्शन किया। विभिन्न फिल्मी गीतों के साथ-साथ शास्त्रीय एवं अ‌र्द्धशास्त्रीय संगीत पर उन्होंने मनभावन नृत्यकला का प्रदर्शन किया। बेहतर प्रदर्शन के आधार पर विभिन्न वर्ग में अरोमा शीर्ष, अभिलाषा, खुशी कुमारी, स्वर्णिका पारुल, शांभवी ओझा व आरंभी जीत ने डांस क्वीन का खिताब जीता। अंत में विजेता प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। मौके पर संस्था के संस्थापक धनंजय चक्रवर्ती, चित्रा चटर्जी, सुमन दास, रजनीकांत प्रभाकर आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran