बेरमो : पेंक थाना क्षेत्र के अति नक्सल प्रभावित ऊपरघाट एवं गोमिया थाना क्षेत्र के झुमरा पहाड़ में नक्सली संगठन भाकपा माओवादी एक बार फिर से संगठन को आर्थिक रूप से मजबूत करने की फिराक में जुट गए हैं। जिला के नक्सल प्रभावित ऊपरघाट में नक्सलियों ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी हैं। इन क्षेत्रों में होने वाले विकास कार्यों सहित अन्य योजनाओं से संचालित होने वाले ठेका कार्यों व खासमहल परियोजना से लेवी की वसूली कर संगठन को आर्थिक रूप से मजबूत किया जा सके। नक्सली गतिविधियों की पुष्टि करते हुए पेंक थाना प्रभारी कार्तिक महतो ने कहा कि ऊपरघाट के कुड़ी पलामू के जंगल में नक्सलियों के जुटने की सूचना मिली थी। कहा कि नक्सली संगठन समाप्ति की ओर हैं। नक्सलियों की मंशा को पुलिस कभी भी पूरा नहीं होने दिया जाएगा। कुड़ी के जंगलों में छापेमारी अभियान शुरू कर दिया गया है। इसके अलावे नक्सलियों को पनाह देने वालों को भी चिन्हित किया जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नक्सली जोनल कमांडर रणविजय महतो को ऊपरघाट सहित झुमरा पहाड़ में संगठन को मजबूत करने का जिम्मा मिला है। कोरोना वायरस के चलते लागू हुए लॉकडाउन में नक्सलियों को आर्थिक रूप से कमजोर किया है। इस समय संगठ को फिर से आर्थिक रूप से सबल बनाने के लिए बड़ी चुनौती है। सूत्रों की माने तो नक्सली कमांडर रणविजय अपने दस्ते के साथ सियारी होते कुड़ी के जंगल में रात को पहुंचा था, जिसकी सूचना पेंक पुलिस को लग गई। पेंक थाना प्रभारी कार्तिक महतो के नेतृत्व में छापेमारी शुरु कर दिया गया। पंद्रह लाख का इनामी नक्सली जोनल कमांडर रणविजय उफ रंजय चंद्रपुरा प्रखंड का रहने वाला है। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार झुमरा पहाड़ में सक्रिय 15 लाख का इनामी नक्सली कमांडर संतोष महतो फिलहाल शुगर, प्रेसर , घुटने के दर्द आदि कई बीमारियों से ग्रसित है। जिसकी देखभाल उसकी पत्नी सह महिला नक्सली कमांडर सुनीता ऊर्फ कौशल्या कर रही है। यही कारण है नक्सली जोनल कमांडर रणविजय को ऊपरघाट सहित झुमरा पहाड़ में संगठन को फिर से मजबूत करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिसकी सूचना खुफिया विभाग ने अपने वरीय अधिकारियों को भेजी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस