जागरण संवाददाता, बोकारो: दिव्यार्थी इंटीग्रेटेड प्लान के तहत पेटरवार के बुढ़नगोरा गांव में अमृत कृषि की शुरुआत की गई। दिच्यार्थी बोकारो की अध्यक्ष आरती सिन्हा ने कहा कि अमृत कृषि के माध्यम से खेत की मिट्टी की ऊर्वरा शक्ति बढ़ती है। इसके जरिए फसलों की पैदावार बढ़ेगी। इससे किसानों की आय भी बढ़ेगी। यह किसानों की समृद्धि का द्वार खोलेगी। कहा कि खेत में जैविक खाद का उपयोग कर अमृत मिट्टी सतह तैयार किया गया है। इस पर फसलों व सब्जियों की खेती की जाएगी। अमृत कृषि पद्धति से किसानों को काफी लाभ होगा। स्वदेशी जागरण मंच के एके सिन्हा ने कहा कि एक ओर जहां इस विधि से खेती करने से किसान समृद्ध होंगे, वहीं दूसरी ओर कम लागत में फसलों की अधिक पैदावार होगी। जल संरक्षण की दिशा में होगा काम

एके सिन्हा ने कहा कि यहां जल संरक्षण की दिशा में भी काम होगा। किसानों को वाटर हार्वेस्टिग के संबंध में जागरूक किया जाएगा। साथ ही यहां जैविक खाद का उत्पादन भी किया जाएगा। यहां सहजन के अलावा आम, ओल, अमरूद, हल्दी, अदरक आदि लगाए जाएंगे। किसानों ने सहजन के पौधे लगाए। आशा लता नर्सरी के दिव्यांग युवाओं ने सहजन के पौधे उपलब्ध कराए। मौके पर दुर्गा दिगवार, पंकज, राजेंद्र तिवारी, एलबी सिंह, सुषमा, सोनी, मदन मोहन, मिथुन, संजय आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran