बेरमो : बेरमो अनुमंडल के गोमिया प्रखंड अंतर्गत चुट्टे पंचायत के दनरा ग्राम में दो माह से बुखार का कहर जारी है। बुखार की चपेट से अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है। उग्रवाद के साथ बीमारी का दंश झेल रहे इस गांव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। लगभग 1200 आबादी वाले दनरा ग्राम में वायरल फीवर व टायफाइड से 90 फीसद घरों के लोग प्रभावित हैं। समुचित इलाज व दवा के बिना घर में ही बिस्तर पर पड़े-पड़े दर्जनों लोग कराह रहे हैं।

सूचना मिलने पर गोमिया विधायक डा. लंबोदर महतो ने उपायुक्त कुलदीप चौधरी को यहां की स्थिति से अवगत कराया। इसके बाद बुधवार की शाम बोकारो की पांच सदस्यीय मेडिकल टीम पहुंची, तो ग्रामीणों ने आक्रोशित होकर विरोध जताया। स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों व समाजसेवियों की ओर से समझाने-बुझाने के बाद ग्रामीण शांत हुए। तब जाकर टीम के सदस्यों ने मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण कर दवा देनी शुरू की।

इनकी हो चुकी है मौत :

चुट्टे पंचायत की निवर्तमान मुखिया लता देवी ने बताया कि बीते दो माह के दौरान दनरा ग्राम के 50 वर्षीय वासुदेव साव, 60 वर्षीय कार्तिक सिंह, 45 वर्षीय बिसनी देवी, 50 वर्षीय रतनी देवी, 35 वर्षीय देवंती देवी, 90 वर्षीय शनिचरिया देवी, 28 वर्षीय महेंद्र सिंह, 40 वर्षीय आशा देवी, आठ वर्षीय सावन कुमार व 55 वर्षीय बसंती देवी की मौत हो चुकी। नहीं थम रहा मौत का सिलसिला :

चुट्टे पंचायत के समाजसेवी जगदीश महतो ने बताया कि दनरा ग्राम में मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। बुधवार को लालमन सिंह उर्फ बहरा की पत्नी बसंती देवी का देहांत हो गया। मृतका के पुत्र गिरधारी सिंह ने बताया कि उनकी मां बीते दो तीन दिनों से बुखार से ग्रसित थीं। मंगलवार को विष्णुगढ़ के एक निजी अस्पताल से इलाज कराकर लौटे थे। बुधवार की सुबह उनकी मौत हो गई।

स्थानीय नारायण महतो ने बताया कि दनरा ग्राम में अभी भी कई लोग गंभीर अवस्था में हैं। वहीं, विनोद सिंह ने बताया कि बीते नौ सितंबर को उनके आठ वर्षीय पुत्र सावन कुमार की मौत हो गई। उस दौरान वह गुजरात में नौकरी कर रहे थे। सावन की मौत की सूचना पाकर वह लौटे।

ऋतु सिंह ने बताया कि बीते तीन सितंबर को उनकी पत्नी रतनी देवी की मौत बुखार से हो गई। वह तीन दिन पूर्व अचानक बीमार हुई थीं। वर्जन : फोटो 15 बेरमो 13 में दनरा ग्राम की बेहद नाजुक स्थिति हो गई है। प्राय: हर घर में लोग वायरल फीवर के साथ ही टायफाइड से ग्रसित हैं। इस स्थिति पर काबू पाने के लिए प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ठोस कदम उठाए। ऐसी स्थिति दनरा ग्राम में कभी नहीं आई थी। यह किसी आपदा से कम नहीं है।

- नारायण महतो, शिक्षक, निवासी दनरा फोटो 15 बेरमो 14 में

दनरा ग्राम में बुखार से हो रही मौत के कारण आसपास के गांवों के लोग भी काफी दहशत में हैं। इस क्षेत्र में एक भी दवा दुकान नहीं है। स्वास्थ्य उपकेंद्र चुट्टे केवल शोभा की वस्तु बनकर रह गया है। इसलिए सही समय पर लोगों को इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही है। दनरा ग्राम में जो स्थिति है उसके अनुसार स्वास्थ्य विभाग को तत्काल मेगा शिविर लगाकर नियंत्रण करना चाहिए, अन्यथा स्थिति और भयावह हो सकती है।

- उपेंद्र महतो, मुखिया प्रतिनिधि, चुट्टे पंचायत फोटो 15 बेरमो 15 में

दनरा ग्राम में अबतक 10 लोगों की मौत हो जाने के बाद भी समुचित इलाज की व्यवस्था प्रशासन की ओर से नहीं की गई। बंद पड़ा चुट्टे स्वास्थ्य उपकेंद्र झाड़ियों से घिरने के साथ ही जर्जर होता जा रहा है। दनरा ग्राम में आई इतनी बड़ी विपत्ति को कोई देखने वाला नहीं है।

- सुखराम मांझी, निवर्तमान वार्ड सदस्य वर्जन

मेडिकल टीम प्रभावित गांव दनरा गई है। टीम की ओर से वहां की रिपोर्ट अबतक अप्राप्त है। रिपोर्ट आने पर उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। साथ ही उपचार की समुचित व्यवस्था की जाएगी।

- डा. जितेंद्र कुमार, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, सीएचसी गोमिया

Edited By: Jagran