जुगल मंगोत्रा, पौनी

सावन का महीना शुरू हो चुका है। 25 जुलाई 2021 को शुरू हुआ सावन का यह महीना 22 अगस्त 2021 को समाप्त होगा। हिन्दू पंचाग का यह पाचवा महीना है, जिसका धाíमक दृष्टि से बड़ा महत्व है। शिवभक्तों के लिए सावन माह सभी महीनों में सबसे पवित्र माह होता है। इसलिए इस माह को भगवान शिव की उपासना के लिए काफी अच्छा माना जाता है। सावन महीने को लेकर आधार शिविर रनसू शिवखोड़ी में विशेष तैयारिया की गई हैं। श्रद्धालु शिवलिंग की पूजा के साथ साथ रुद्राभिषेक, जलाभिषेक कर सकते हैं, जिसके लिए शिवखोडी श्राइन बोर्ड के कíमयों और पंडितों द्वारा पूरी तैयारी कर ली गई है। सोमवार को शिवखोड़ी में काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचने की उम्मीद है। सावन महीने का पहला सोमवार होने पर श्रद्धालु शिवलिंग की पूजा अर्चना कर पूजा की सामग्री चढ़ाएंगे। इस मौके पर श्रद्धालु सुबह शाम आरती में बैठेंगे और भगवान शिव की आराधना करेंगे। सुबह शाम होने वाली आरती में श्रद्धालुओं के बैठने के लिए भी पूरी तरह से व्यवस्था की गई है।

शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड के प्रबंधक अशोक कुमार ने बताया सावन महीने में काफी संख्या में श्रद्धालु भोले शकर के दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं। इसमें खासकर क्षेत्रीय श्रद्धालुओं की संख्या अधिक होती है। श्रद्धालुओं को दर्शन करने में किसी तरह की कोई परेशानी ना हो इसको लेकर बोर्ड प्रशासन की तरफ से व्यापक प्रबंध किए गए है।

..

शिव पूजा में इस सामग्री का करें प्रयोग

सावन महीने में भगवान शिव की पूजा के लिए पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चादी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भाग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें, तुलसी दल, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मा पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि चढ़ाएं।

-----

सावन महीने के सोमवार

पहला सोमवार- 26 जुलाई

दूसरा सोमवार- 02 अगस्त

तीसरा सोमवार- 09 अगस्त

चौथा सोमवार- 16 अगस्त

.-----

भगवान शकर को दूध बेहद प्रिय है। इसलिए भगवान शकर की पूजा में दूध का इस्तेमाल करना शुभ फलदायी माना जाता है। सावन महीने में शिव पूजा के समय शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं। सावन में भगवान शकर का दूध से रूद्राभिषेक करने से मनोकामना पूरी होने की मान्यता है।

-आचार्य दीपक शास्त्री, मुख्य पुजारी, शिवखोड़ी धाम

..

Edited By: Jagran