जुगल मगोत्रा पौनी

रियासी में शिवखोड़ी धाम का प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में अपना विशिष्ट स्थान है। विश्व प्रसिद्ध अमरनाथ की पवित्र गुफा की भांति ही लाखों शिव भक्त प्रतिवर्ष शिवखोड़ी में भोले बाबा के दर्शन करते हैं। यहां शिवरात्रि पर तीन दिन तक मेला लगता है। तीन किमी लंबा रास्ता भोले बाबा के जयकारों से गूंज उठता है। तीन से पांच मार्च तक लगने वाले मेले में देशभर से भोले बाबा के भक्त आते हैं। शिवरात्रि मेले का उद्घाटन डिविजनल कमिश्नर संजीव कुमार वर्मा करेंगे।

माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के बाद अधिकतर श्रद्धालु रनसू पहुंचते हैं। रनसू से आगे तीन किमी दूर प्राकृतिक गुफा स्थित है। रनसू गांव से गुफा तक तीन किलोमीटर लंबे रास्ते में प्राकृतिक सौंदर्य देख भक्तों को अपार सुख की अनुभूति होती है। शिवखोड़ी पहुंचने के लिए जम्मू और कटड़ा दोनों ही जगहों से छोटे-बड़े वाहन उपलब्ध हैं। रनसू पहुंचने के बाद यात्रियों को मार्गदर्शन कराने के लिए गाइड और पंडित मिलते हैं जो पर्यटकों को वहां की पौराणिक मान्यताओं की जानकारी देते हैं।

अंजली कुंड में नंदी ने पिया था पानी

गुफा तक की यात्रा के दौरान भक्तों को रास्ते में कई रमणीय स्थलों के दर्शन होते हैं। यात्रा शुरू करते ही सबसे पहले दूध गंगा के दर्शन किए जाते हैं। इससे कुछ दूर आगे चलते ही एक कुंड के दर्शन होते हैं जिसे अंजली कुंड के नाम से जाना जाता है। मान्यताओं के अनुसार अंजली कुंड में नंदी (बैल) ने पानी पिया था। यहां नंदी के पैरों के निशान बने हुए हैं। 12 फीट गहरे कुंड में यात्री मछलियों को आटा डालकर पुण्य कमाते हैं।

जल्द होगा दूसरे मार्ग का निर्माण

शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड की वाइस चेयरपर्सन व डीसी रियासी इंदु कंवल चिब का कहना है कि आगामी दिनों में श्रद्धालुओं की संख्या में काफी बढ़ोतरी हो जाएगी। शिवखोड़ी में दूसरा मार्ग बनाने के लिए बात हो चुकी है। आने वाले समय में गुफा तक दूसरा मार्ग का निर्माण भी हो जाएगा जिसमें एक मार्ग से श्रद्धालु व दूसरे रास्ते से घोड़ा, पिट्ठू वाले गुफा की ओर आगे बढ़ेंगे। रनसू से गुफा तक दौड़ेगी केबल कार

शिवखोड़ी में भोले बाबा के दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को हेलीकाप्टर सेवा के बाद केबल कार सेवा का तोहफा भी जल्द मिलने वाला है। जेएंडके केबल कार कॉरपोरेशन द्वारा रनसू से गुफा तक तीन किमी केबल कार सेवा शुरू करने के लिए सर्वे शुरू कर दिया गया है। यहां हेलीकॉप्टर सेवा कुछ समय तक चली थी। सितंबर 2014 में बारिश के दौरान हैलीपेड से गुफा तक आधा किमी यात्रा मार्ग क्षतिग्रस्त होने के बाद हेलीकाप्टर सेवा बंद करनी पड़ी थी। अब रास्ता बनने के बाद एक बार फिर से जल्द हेलीकॉप्टर सेवा शुरू होने की उम्मीद है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस