संवाद सहयोगी, पौनी : आधार शिविर रनसू शिवखोड़ी में भगवान भोले शंकर के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं को अब रुद्राभिषेक करने के 5100 रुपये देने होंगे। इसकी बोर्ड प्रशासन की तरफ से तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। अगले कुछ दिन में इसकी शुरुआत हो जाएगी। इससे पहले श्रद्धालु बिना पैसे दिए शिव¨लग का रुद्राभिषेक एवं पूजा करते थे। अब बोर्ड प्रशासन ने निर्णय लिया है कि कटड़ा माता वैष्णो देवी की भांति शिवखोड़ी स्थित भोले बाबा के शिव¨लग की पूजा एवं रुद्राभिषेक करने पर श्रद्धालुओं से श्रद्धा के रूप में 5100 रुपये लिए जाएंगे। इसके अलावा आरती में बैठने वाले हर श्रद्धालु से भी 500 रुपये लिए जाएंगे। प्रशासन के मुताबिक सामान्य दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं से किसी तरह का कोई भी शुल्क नहीं वसूला जाएगा। जो श्रद्धालु पूजा का सामान अपने साथ लाएंगे, उससे मात्र 2000 रुपये लिए जाएंगे। अगर पूजा व रुद्राभिषेक का सामान बोर्ड प्रशासन से लेना होगा, तो उसके लिए 5100 रुपये देने अनिवार्य रखे गए हैं। रुद्राभिषेक करने का समय सुबह 8:00 से 10:00 बजे तक रखा गया है।

रुद्राभिषेक मनुष्य के लिए है अनिवार्य

विशेष अवसर पर या सोमवार, प्रदोष और शिवरात्रि आदि पर्व के दिनों में मंत्र, गोदुग्ध या अन्य दूध मिलाकर अथवा केवल दूध से भी अभिषेक किया जाता है। विशेष पूजा में दूध, दही, घृत, शहद और चीनी से अलग-अलग अथवा सबको मिलाकर पंचामृत से भी अभिषेक किया जाता है। तंत्रों में रोग निवारण हेतु अन्य विभिन्न वस्तुओं से भी अभिषेक करने का विधान है। इस प्रकार विविध द्रव्यों से शिव¨लग का विधिवत अभिषेक करने पर अभीष्ट कामना की पूर्ति होती है।

पंडित दीपक शास्त्री, मुख्य पुजारी शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड रनसू।

यात्रा मार्ग पर मिलती है पल पल की जानकारी

जम्मू से 100 व कटडा से 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित आधार शिविर रनसू शिवखोड़ी के भोले बाबा के दर्शन करने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को रनसू से 3 किलोमीटर गुफा में पहुंचने से पहले ही जानकारी प्राप्त करा दी जाती है। भक्तों को गुफा में होने वाले प्रत्येक कार्यक्रम की यात्रा मार्ग व बाजार में लाउडस्पीकर के माध्यम से पल-पल की जानकारी दी जाती है है। इसके अलावा लोड स्पीकर के माध्यम से गुफा में प्रसारित होने वाले आरती के सीधे प्रसारण को लेकर भी भक्तों को जानकारी प्राप्त होती है। गुफा में एम एच1 चैनल पर रोजाना सुबह शाम 7 से 8 बजे तक आरती का सीधा प्रसारण किया जाता है, जिसमें श्रद्धालु घर बैठे भोले बाबा के दर्शन करते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस