संवाद सहयोगी, पौनी : शनिवार से पवित्र चैत्र नवरात्र शुरू हो गए। इसके साथ ही आधार शिविर रनसू शिवखोड़ी में भोले बाबा के भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी है।

भोले के प्रसाद से दुकानें सजी हुई हैं। देश भर से भगवान शंकर के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु गुफा में भोले के शिवलिग के दर्शन के लिए जाने से पहले नारियल, बिल पत्र, धोती, गढ़वा, सिदूर आदि खरीद कर आगे बढ़ते हैं। श्रद्धालु गुफा में जाकर भगवान शंकर के आगे पूजा में प्रसाद की भेंट चढ़ाकर बाहर लौटते हैं। श्रद्धालु मानते हैं कि नवरात्रों में शिवलिग की पूजा और प्रसाद चढाने से लोगों के कष्ट दूर होते हैं। शिवलिग पर चढ़ने वाले चढ़ावे को श्राइन बोर्ड द्वारा फिर से अपनी दुकानों पर श्रद्धालुओं को बेचने के लिए रखा जाता है, जिससे प्रसाद बेकार नहीं होता। नवरात्र के मद्देनजर रनसू बाजार से लेकर गुफा के मुख्य द्वार तक सभी दुकानें भोले के प्रसाद से सजी हुई हैं।

भोले बाबा का दरबार भव्य रूप से सजाया

बोर्ड कर्मचारियों द्वारा बाबा के दरबार को फूलों से सजाया गया है। आने वाले सभी श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए नवरात्रों में सुबह शाम आरती में बैठने की व्यवस्था की गई है। जो श्रद्धालु भोले बाबा के दर्शन करने के लिए नहीं पहुंच पाएंगे वह अपने घरों पर बैठकर कर शिवखोड़ी से रोजना सुबह शाम एमएच1 चैनल पर प्रसारित होने वाली आरती के माध्यम से भोले बाबा के दर्शन कर सकते हैं।

नवरात्र पर माता वैष्णो देवी के दर्शन के बाद काफी संख्या में श्रद्धालु भोले बाबा के दर्शन के लिए रनसू शिवखोड़ी पहुंचे। श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो, इसे लेकर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। गुफा में श्रद्धालुओं को पूजा करवाने के लिए पंडितों को निर्देश दे दिए गए हैं।

अशोक कुमार, नायब तहसीलदार रनसू चैत्र नवरात्र पर श्रद्धालुओं के लिए शिवलिग पर जलाभिषेक के लिए खास ध्यान रखा जाएगा। श्रद्धालु आरती के बाद दोनों समय शिवलिग की पूजा कर सकते हैं। नवरात्रों पर शिवलिग की पूजा करने से परिवार में सुख की अनुभूति होती है। गुफा में उपस्थित सभी शास्त्री पंडित श्रद्धालुओं को विधि पूर्वक पूजा करवाएंगे।

पंडित दीपक शास्त्री, मुख्य पूजारी शिवखोड़ी गुफा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस