मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, किश्तवाड़ : मिंधल माता की छड़ी यात्रा पाडर के तैयारी गाव के लिए रवाना हुई। यात्रा रविवार को रियासी से चलकर किश्तवाड़ पहुंची थी। यात्रा में दो हजार से ज्यादा श्रद्धालु शामिल हुए। यात्रा किश्तवाड़ के गौरी शकर मंदिर में रुकने के बाद पाडर के तैयारी गाव के लिए रवाना हुई। यात्रा की विदाई के लिए कई स्थानीय लोग सरकुट मंदिर पहुंचे और यात्रा के त्रिशूल को पाडर के लिए विदा किया।

इस मौके पर लोग भजन-कीर्तन व माता के जयकारे लगाते हुए पाडर की तरफ बढ़ रहे थे और सारा शहर माता के जयकारों से गूंज रहा था। यह यात्रा सोमवार शाम को तैयारी गाव में रुक कर मंगलवार को मिंधल माता के दरबार में पहुंचेगी। बुधवार को सभी यात्री माता के दर्शन करने के बाद हवन यज्ञ में बैठेंगे और पूर्णाहुति देने के बाद माता के दरबार में भजन-कीर्तन करेंगे। रातभर जगराता होगा और वीरवार को यात्री अपने घरों को वापस लौटेंगे। यात्रियों के लिए हर पड़ाव पर श्रद्धालुओं द्वारा लंगर की व्यवस्था की गई है। सोमवार को भी कठुआ, जम्मू, ऊधमपुर, रियासी से कई छोटी गाड़िया किश्तवाड़ से गुजरीं और यात्री माता के जयकारे लगाते हुए किश्तवाड़ से पाडर जाते हुए नजर आए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप