जागरण संवाददाता, ऊधमपुर : डोगरा क्रांति दल के मुख्य संरक्षक व पूर्व विधायक बलवंत सिंह मनकोटिया ने बुधवार को जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से राजभवन में मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से उधमपुर विधानसभा क्षेत्र व जम्मू कश्मीर के सामाजिक, राजनीति, बेरोजगारी व विकास के मुद्दों से अवगत कराया। मनकोटिया ने बताया कि उपराज्यपाल ने सभी मांगों को सुनने के बाद जायज मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया है।

मनकोटिया ने बताया कि जिस तरह से कश्मीर में अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जा रहा है, वह काफी चिताजनक है। सरकार को इसे लेकर कड़े कदम उठा कर इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने चाहिए। मनकोटिया ने कहा कि जिस तरह से जम्मू संभाग के कई दलित परिवार हैं जो कश्मीर में नौकरियां कर रहे हैं। वह भी अल्पसंख्यकों में आते हैं, वह भी अपने आप को कश्मीर में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उनका आत्मबल किस तरह से बढ़ाया जाए, इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है, ताकि घाटी से विस्थापन न हो।

मनकोटिया ने उपराज्यपाल से कहा कि कश्मीर का एयरपोर्ट इंटरनेशनल एयरपोर्ट है, मगर जम्मू एयरपोर्ट के लिए भी काफी पैसा आया है, लेकिन इंटरनेशनल एयरपोर्ट का दर्जा आज तक जम्मू एयरपोर्ट को नहीं मिल पाया। पिछले दिनों में मंत्रियों ने केंद्र शासित प्रदेश का जो दौरा किया है। उसमें भी जो पैसा केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर को दिया है, जिसमें जम्मू को उसका एक चौथाई हिस्सा भी नहीं मिल पाया है। इसमें भी जम्मू के साथ भेदभाव किया गया है।

कहा, पढ़े लिखे युवाओं को नहीं मिल रहा रोजगार

मनकोटिया ने बेरोजगारी पर चिता व्यक्त करते हुए उपराज्यपाल को बताया कि जम्मू कश्मीर के युवा पीएचडी, नेट, जेआरएफ जैसी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बावजूद बेरोजगार है। जबकि कई विभागों में पद खाली हैं। उन्होंने उपराज्यपाल से बेरोजगार छात्रों के लिए फास्टट्रैक नियुक्तियों के लिए नीति बनाने की मांग की। इस अवसर पर मनकोटिया ने बिरमा नदी व थाथी में नए पुल के निर्माण की मांग भी उपराज्यपाल से की।

डेढ़ साल बाद भी चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की नहीं हुई नियुक्ति

मनकोटिया ने बताया जम्मू कश्मीर में जिस तरह से पिछले दिनों में दर्जा चार पदों की नियुक्ति हुई, मगर डेढ़ साल बीतने के बावजूद उन उम्मीदवारों को नियुक्त नहीं किया गया है। उधमपुर के वैली गांव में मेडिकल कॉलेज को अभी बनने में समय लगेगा। इसलिए कठुआ मेडिकल कॉलेज की तर्ज पर फिलहाल ऊधमपुर मेडिकल कॉलेज को भी जिला अस्पताल में शुरू किया जाए।

देविका प्रोजेक्ट के नाम पर शहर में की गई तबाही

मनकोटिया ने देविका प्रोजेक्ट के नाम पर शहर में की गई तबाही से अवगत कराते हुए उपराज्यपाल से कहा कि जिस तरह इस काम के लिए शहर में बर्बादी की गई है। लोगों का अपने घरों से बाहर निकलना और सड़कों और गलियों पर चलना मुश्किल हो गया है। पिछले दो-तीन साल से शहर की हर सड़क हर गली को उखाड़ कर रख दिया है, लेकिन उसे ठीक नहीं किया जा रहा है। काम का स्तर भी बेहद घटिया है।

स्थायी कर्मियों को स्थायी करने की मांग की

उन्होंने उप उपराज्यपाल के समक्ष डेलीवेजर्स को स्थाई करने, एनवाईसी और रेहबरे खेल कर्मियों की मांगों के अलावा धार रोड को चौड़ा करने, ड्रग्स, ट्रैफिक जाम, मल्टी लेवल पार्किंग, पानी, बिजली की किल्लत, स्टेडियम, ठोस कचरा प्रबंधन सहित अन्य मुद्दों को लेकर उप राज्यपाल को ज्ञापन सौंप कर इनको हल करने की मांग की। इस अवसर पर उधमपुर टेबल टेनिस एसोसिएशन के महासचिव तरुण चौहान भी थे। उन्होंने भी उपराज्यपाल को टेबल टेनिस के खेलो इंडिया कोचिग सेंटर को स्थानांतरित करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा।

Edited By: Jagran