संवाद सहयोगी, किश्तवाड़ : मंगलवार को गुलाबगढ़ पाडर में सारा दिन बारिश के चलते हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर सके। शाम छह बजे के बाद मौसम थोड़ा साफ होने पर पवन हंस कंपनी के एक हेलीकॉप्टर ने कुछ यात्रियों को मचैल से गुलाबगढ़ तक पहुंचाया। इसके बाद अंधेरा होने की वजह से हेलीकॉप्टर बंद करना पड़ा। अब बुधवार को मौसम साफ रहने पर ही गुलाबगढ़ में फंसे हुए यात्री अपना सफर हेलीकॉप्टर से कर पाएंगे।

वहीं, गुलाबगढ़ से 18 किलोमीटर की दूरी पर जसनई नाला में बाढ़ आ जाने से नाले का पुल बाढ़ में बह गया, जिससे काफी समय तक दोनों तरफ यात्री फंसे रहे। बाद में स्थानीय लोगों ने वहां पर कुछ लकड़ी के खंभे डालकर रास्ता बनाया। एक-एक यात्री को हाथ पकड़-पकड़ कर आर-पार करवाया गया। जसनई नाला में 2016 में भी बाढ़ आई थी, जिसमें दो युवतियां और एक युवक बह गए थे, जिनका आज तक कोई पता नहीं चल पाया। इसके साथ ही मंगलवार सुबह बटोत से लेकर डोडा तक कई जगहों पर मलबा आ जाने की वजह से सुबह सड़क बंद रही। मशीनों को लगाकर मलबा हटाकर सड़क को खोला गया और फंसे हुए यात्रियों को जाने की इजाजत दी गई।

Posted By: Jagran