संवाद सहयोगी, किश्तवाड़ : बुधवार को भी बहुत सारे श्रद्धालु मचैल माता के लिए हेलीकॉप्टरों के जरिए और कुछ पैदल ही मचैल यात्रा के लिए रवाना हुए। लंगरों की कमी की वजह से श्रद्धालु परेशान हो रहे हैं।

संस्था ने 25 जुलाई से 5 सितंबर तक सभी लंगर खुले रहने का दावा किया था, मगर यात्रियों की कमी के चलते बहुत से लंगर बंद हो गए हैं। अगर श्रद्धालु ही नहीं आते तो लंगर लगाने वालों का उत्साह भी कम हो जाता है। इसके बावजूद कुछ स्थानों पर इक्का-दुक्का लंगर वाले मौजूद रह कर भक्तों को प्रसाद परोस रहे हैं। इस समय जितने भी श्रद्धालु आ रहे हैं उसमें से ज्यादातर हेलीकॉप्टर से यात्रा करने वाले हैं। पैदल यात्रियों की कमी आने से स्थानीय लोगों द्वारा लगाई गई बहुत सी दुकानें भी धीरे-धीरे बंद होने लगी है।

Posted By: Jagran