संवाद सहयोगी, पौनी : त्योट पंचायत के ग्रामीणों को पेयजल की किल्लत न हो इसके लिए पीएचई विभाग की तरफ से 1980 में त्योट वाटर सप्लाई स्कीम शुरू की गई थी। तब लोगों को लगा था कि पीने के पानी की समस्या हल हो जाएगी। एक वर्ष तक पानी की सप्लाई मिलने के बाद अब कई वर्षो से गांव में पानी की सप्लाई नहीं आई है। ग्रामीणों का कहना है कि विभाग द्वारा लाखों रुपये खर्च

करने के बाद क्षेत्र में पानी की सप्लाई की नई योजना शुरू की गई थी, लेकिन अब गांव में पाइपें तक मौजूद नहीं हैं। कई पाइपें टूट गई हैं तो कई नालों में बरसात के दिनों बढ़े जलस्तर के कारण बह गई हैं। विभाग को लाखों रुपये का नुकसान तो झेलना ही पड़ा लेकिन ग्रामीणों की आंखें फिर से गांव में पीने की पानी की सप्लाई शुरू होने का इंतजार कर रही हैं।

पंचायत त्योट के पूर्व सरपंच सुभाष चंद्र, अलैया के पूर्व सरपंच भरत सिंह कहना है कि गांव सुजानपुर, माड़ा, कला, भग्गा, धरमाडा, लामा, दखड्ड, वरियाला, करंग आदि में पीने के पानी की भारी समस्या होने पर ग्रामीणों को मीलों दूर चलकर पीने का पानी लाना पड़ रहा है। बरसात के मौसम में गंदा पानी पीना पड़ता है। गर्मी के दिनों में चश्मों का पानी भी सूख जाता है। मौजूदा हालत तो ऐसे हैं कि लोगों को पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। पंचायत में रोजाना करीब एक लाख गेलन पानी की जरूरत है, जिससे लोगों के साथ-साथ मवेशियों को भी पानी पीने को आवश्यकता होती है। उनका कहना है गांव में पीने के पानी की सप्लाई शुरू करने के लिए कई बार पीएचई विभाग को अवगत करवा चुके हैं लेकिन ग्रामीणों की समस्या पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने पीएचई विभाग से गांव में फिर से पीने के पानी के लिए वाटर स्कीम शुरू करने की मांग की है।

गजोड़ व सलनू पंचायत में भी यही हालात

तहसील के गजोड़ व सलनू पंचायत की स्थिति भी इन दिनों पीने के पानी को लेकर खराब है। गांव में पीने के पानी की सप्लाई उपलब्ध नहीं हो रही है, जिससे ग्रामीणों काफी परेशान हैं। सलून गांव में कई जगह पर नल नहीं लगाए गए हैं। विभाग द्वारा जो इक्का दुक्का नल लगे हैं उनका तीस वर्षो से ज्यादा का समय हो गया है, जिनमें पर्याप्त मात्रा में पानी की सप्लाई नहीं आती।

लोग बोले, डीसी को बताएंगे समस्या

पंचायत त्योट और अलैया के लिए अपने कार्यकाल के दौरान वाटर सप्लाई स्कीमें शुरू की गई थीं, लेकिन विधानसभा चुनावों में हार मिलने के बाद सभी काम ठप हो गए थे। एमएलसी बनने के बाद पौनी क्षेत्र में काफी काम कराए गए हैं। अब उनका कार्यकाल समाप्त हो चुका है। फिर भी वह लोगों की समस्या को लेकर डीसी रियासी से बात करेंगे। दोनों पंचायतों में पीने के पानी की नई स्कीमें शुरू करने के लिए सर्वे के बाद पाइपें में डाली गई हैं। आने वाले दिनों में पानी की स्कीमें शुरू कर लोगों की समस्या को हल कर दिया जाएगा।

-सतीश शर्मा जेई पीएचई

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस