संवाद सहयोगी, रियासी : जिले के जंगलों व पहाड़ों में आग लगने की घटनाएं रुक नहीं रही है। वीरवार को भी सरमेघा और ज्योतिपूरम से लगते जंगल आग से सुलग उठे, जिनकी राख तेज हवा में उड़कर रियासी कस्बे में लोगों के घरों तक पहुंच गई। वन कर्मी स्थानीय लोगों की मदद से आग बुझाने में जुटे हुए हैं।

रियासी के भमाग के टोट ब्लाक में वन विभाग के कंपार्टमेंट नंबर 60आर में सुबह आठ बजे अचानक आग की लपटें और धुआं उठने की जानकारी मिलते ही वन कर्मियों ने स्थानीय लोगों की मदद से आग बुझाने का काम शुरू कर दिया, लेकिन तेज हवा आग बुझाने में बाधा बनने लगी। आग तेज हवा से भड़कते हुए सरमेघा इलाके में कंपार्टमेंट नंबर 26आर तक पहुंच गई और फिर दोपहर होते होते आग ने रियासी ब्लाक के कंपार्टमेंट नंबर 33 आर को भी चपेट में ले लिया। दोपहर बाद हवा की गति और बढ़ने लगी, जिससे जंगल पहाड़ों में लगी आग की राख रियासी कस्बे में लोगों के घरों में गिरने लगी। पिछले कुछ दिन से गर्मी के कड़े तेवरों के बीच बिजली की अघोषित से लोग पहले से ही बेहाल है और ऊपर से जंगलों व पहाड़ों की आग ने इलाके के तापमान में और वृद्धि कर दी है, जिससे आम लोगों की परेशानियां भी बढ़ने लगी हैं। आम लोगों का कहना है कि घास के लालच में कुछ लोग आगामी बरसात से पहले जंगलों व पहाड़ों में पुरानी घास को जलाने के लिए आग लगा देते हैं जिससे वन संपदा को हर वर्ष बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचता है। पिछले कुछ दिन से आग की घटनाओं में तेजी आई हैं। घास के लालची लोग जंगलों में आग की घटनाओं को अंजाम देकर अपने मंसूबों में सफल हो रहे हैं जबकि वन विभाग आग बुझाने की मशक्कत में लगा रहता है। विभाग को आग लगाने वालों को दबोचने के प्रयास करने की जरूरत है ताकि उन पर सख्त कार्रवाई कर उन्हें सबक सिखाया जा सके। वन विभाग भमाग के ब्लॉक आफिसर सुरेंद्र पाल और रियासी ब्लॉक ऑफिसर अरविद कुमार ने बताया कि कुछ जगहों में आग पर काबू पा लिया है जबकि दुर्गम तथा ऊंचे स्थानों पर आग बुझाने में तेज हवा बाधक बन रही हैं। वन कर्मी स्थानीय लोगों की मदद से आग बुझाने में जुटे हुए हैं।

Edited By: Jagran