संवाद सहयोगी, किश्तवाड़ : मचैल यात्रा के दौरान 20 अगस्त को सात यात्री मारे गए थे और 12 घायल हो गए थे। किश्तवाड़ पुलिस ने बटोत-किश्तवाड़ नेशनल हाईवे 244 पर काम कर रही कंपनी एनएचआइडीसीएल को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है। पुलिस का कहना है कि उक्त कंपनी द्वारा सड़क निर्माण में लापरवाही के चलते हादसा हुआ था। पुलिस ने कंपनी पर मामला दर्ज कर लिया है।

एसएसपी किश्तवाड़ राजेंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि एनएचआइडीसीएल को जम्मू कश्मीर सरकार ने बटोत से लेकर किश्तवाड़ संथन तक की सड़क का काम सौंपा है। एनएचआइडीसीएल ने आगे एसआरएम प्राइवेट लिमिटेड को काम सौंप दिया, लेकिन दोनों ही सड़क को ठीक करने में नाकाम रहे। जिसके चलते 20 अगस्त को ठाठरी और द्रबशाला के बीच में कुलीगढ़ में मलबा गिरने से मेटाडोर व कार दब गई और उसमें सात यात्रियों को अपनी जान गंवानी पड़ी तथा 12 यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसी के चलते पुलिस ने एनएचआइडीसीएल पर मामला दर्ज किया है।

Posted By: Jagran