राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा जम्मू कश्मीर का राज्यपाल नामित किए जाने के 24 घंटे के भीतर ही बुधवार को सत्यपाल मलिक ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर पहुंच गए। राज्य के 13वें राज्यपाल के रूप में वीरवार को कार्यभार संभालने जा रहे मलिक बुधवार शाम करीब साढ़े चार बजे पटना से एक विशेष विमान में श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरे। उनकी आगवानी के लिए राज्य प्रशासन के सभी वरिष्ठ अधिकारी एयरपोर्ट पर मौजूद थे।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला भी निवर्तमान राज्यपाल एनएन वोहरा के उत्तराधिकारी की आगवानी के लिए एयरपोर्ट पर मौजूद थे। इस बीच, निवर्तमान राज्यपाल एनएन वोहरा बुधवार को न राजभवन में नजर आए और न श्रीनगर एयरपोर्ट पर। वह दिल्ली में थे। वोहरा मंगलवार की रात को ही सरकारी विमान में दिल्ली चले गए थे और आज भी वहीं पर रहे। वह वीरवार की सुबह दिल्ली से लौटेंगे और अपने उत्तराधिकारी सत्यपाल मलिक को औपचारिक रूप से राजभवन का कार्यभार सौंपेंगे।

एयरपोर्ट पर उनकी आगवानी के लिए दोपहर को पटना से श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उनके आगमन पर सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला, राज्यपाल के तीनों सलाहकार बीबी व्यास, के विजय कुमार और खुर्शीद अहमद गनई, मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम, महानिदेशक राज्य पुलिस डॉ. एसपी वैद, राज्यपाल के प्रमुख सचिव उमंग नरुला, वित्तीय आयुक्त, प्रशासनिक सचिव, मंडलायुक्त कश्मीर, आइजीपी कश्मीर, जिला उपायुक्त बडगाम और नागरिक, पुलिस प्रशासन और सेना के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

वीरवार को राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण करने वाले सत्यपाल मलिक एक बड़े काफिले के साथ एयरपोर्ट से सीधे राजभवन पहुंचे, जहां डीआइजी पुलिस, केंद्रीय कश्मीर, उपायुक्त श्रीनगर, एसएसपी श्रीनगर और राजभवन कर्मचारियों ने उनकी आगवानी की।

इससे पूर्व मुख्य सचिव ने नागरिक और पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों संग अलग-अलग बैठकों में नामित राज्यपाल के आगमन और वीरवार को राजभवन में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने प्रोटोकॉल के अनुसार उचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए सभी संबंधित लोगों को निर्देश जारी किए। मुख्यसचिव ने नामित राज्यपाल के लिए राजभवन के बाहर सभी व्यवस्थाओं के लिए प्रमुख सचिव आतिथ्य एवं प्रोटोकॉल और शपथ ग्रहण समारोह के संबंध में राजभवन में सभी व्यवस्थाओं के लिए राज्यपाल के प्रमुख सचिव को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है।

सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा महानिदेशक और एडीजीपी को सौंपा गया है। राज्यपाल के सलाहकार, मुख्यसचिव, महानिदेशक और प्रशासकीय सचिव वीरवार की शाम राज्यपाल को रियासत के समग्र राजनीतिक, प्रशासकीय और सुरक्षा परिदृश्य के बारे में एक बैठक में औपचारिक रूप से जानकारी देंगे।

Posted By: Jagran