राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : कश्मीर घाटी में बुधवार को नमाज-ए-ईद के बाद विभिन्न इलाकों में अलगाववादी व आतंकी समर्थक ¨हसा पर उतर आए। प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तानी ध्वज, अलकायदा, आइएसआइएस व अन्य आतंकी संगठनों के बैनर और आतंकियों के पोस्टर भी लहराए। इस दौरान पथराव व पुलिस के साथ हुई झड़पों में चार सुरक्षाकर्मियों समेत 12 से ज्यादा लोग घायल हो गए। इस दौरान पुलिस ने कई पत्थरबाजों को भी हिरासत में ले लिया।

खुफिया एजेंसियों ने पहले ही प्रशासन को सूचित कर दिया था कि नमाज-ए-ईद के बाद विभिन्न इलाकों में ¨हसा हो सकती है। सूचना पर श्रीनगर समेत वादी के सभी इलाकों में बुधवार को प्रशासन ने सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त किया था। बावजूद इसके सुबह ही वादी में ¨हसक झड़पों का दौर शुरू हो गया। दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग के अशाजीपोरा और जंगलात मंडी में नमाज संपन्न होने के साथ ही बड़ी संख्या में युवकों ने राष्ट्रविरोधी नारेबाजी करते हुए जुलूस निकालना शुरू कर दिया। जुलूस में शामिल कुछ युवकों ने वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों पर पथराव करते हुए सार्वजनिक संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया। स्थिति को बेकाबू होते देख सुरक्षाकर्मियों ने भी लाठियों और आंसूगैस का सहारा लिया। इसके साथ वहां ¨हसक झड़पें शुरू हो गई। करीब दो घंटे तक जारी ¨हसक झड़पों में एक सीआरपीएफ कर्मी के अलावा तीन प्रदर्शनकारी जख्मी हुए थे।

उत्तरी कश्मीर के सोपोर, बारामुला, पलहालन, पट्टन और कुपवाड़ा में भी नमाज-ए-ईद के बाद देश विरोधी प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाबलों पर पथराव करते हुए उनके बंकरों और वाहनों पर हमले किए। सुरक्षाबलों को भी बल प्रयोग करना पड़ा। ¨हसक झड़पों के दौरान सोपोर में दो, पलहालन में तीन और कुपवाड़ा में तीन प्रदर्शनकारियों के अलावा दो सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं।

इधर, श्रीनगर में ईदगाह में नमाज संपन्न होने और मीरवाइज मौलवी उमर फारूक के अपने घर रवाना होने के तुरंत बाद ¨हसा भड़क उठी। आजादी समर्थक नारे लगाते तत्वों ने ईदगाह के बाहर तैनात पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों पर पथराव शुरू कर दिया। सुरक्षाकर्मियों ने शुरू में संयम बनाए रखा, लेकिन जब स्थिति बेकाबू होने लगी तो उन्होंने भी ¨हसक भीड़ पर काबू पाने के लिए लाठियां, आंसूगैस और पैलेट गन का सहारा लिया, लेकिन ¨हसा शांत होने के बजाय ईदगाह से सटे अन्य इलाकों में भी फैल गई। सूत्रों की मानें तो ¨हसक प्रदर्शनकारियों ने सिर्फ ईदगाह श्रीनगर में ही नहीं सोपोर और अनंतनाग में भी लश्कर, अलकायदा, जाकिर मूसा और पाकिस्तानी झंडे लहराए। कई जगह शरारती तत्वों ने आतंकियों के पोस्टरों के साथ प्रदर्शन किया।

Posted By: Jagran