राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग में स्वास्थ्य अधिकारी की नियुक्ति अब मौखिक साक्षात्कार से नहीं बल्कि लिखित परीक्षा में मेरिट के आधार पर होगी। यह फैसला राज्य प्रशासनिक परिषद (एसएसी) की राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया।

एसएसी ने जम्मू कश्मीर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण (राजपत्रित) सेवा भर्ती नियम 2013 में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए स्वास्थ्य अधिकारियों की नियुक्ति के लिए मौखिक साक्षात्कार की प्रक्रिया को समाप्त कर दिया। एसएसी ने स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग को जम्मू कश्मीर लोक सेवा आयोग के साथ विचार विमर्श के आधार पर स्वास्थ्य अधिकारी के पद के लिए नियम, पात्रता और लिखित परीक्षा का स्तर तय करने का निर्देश भी दिया है।

गौरतलब है कि स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग एक आवश्यक सेवा विभाग है और स्वास्थ्य अधिकारी स्वास्थ्य विभाग की रीढ़ की हड्डी माने जाते हैं। मौखिक परीक्षा को समाप्त किए जाने से न सिर्फ स्वास्थ्य अधिकारियों का चयन फास्ट ट्रैक पर होगा बल्कि दूरदराज इलाकों में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने में भी मदद मिलेगी। इस समय राज्य में स्वास्थ्य अधिकारियों के एक हजार से ज्यादा पद खाली पड़े हैं।

Posted By: Jagran