श्रीनगर, [संवाद सहयोगी] पुलवामा के लेथपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए तीसरे आतंकी का शव सोमवार को बरामद कर लिया गया। घटनास्थल से हथियार और गोलाबारूद भी मिले हैं। इसके साथ क्षेत्र में तलाशी अभियान खत्म हो गया।

वहीं,पुलवामा के द्रबगाम इलाके में सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़पों में सुरक्षाबलों की गोली लगने से एक युवक घायल हो गया। एहतियातन बनिहाल-श्रीनगर रेल सेवा स्थगित कर दी गई है। गौरतलब है कि लेथपोरा क्षेत्र में स्थित सीआरपीएफ के 185वीं वाहिनी के प्रशिक्षण केंद्र में जैश आतंकियों ने रविवार तड़के ग्रेनेड फेंक कर गोलियां बरसाई थीं।

इसके बाद शुरू हुई मुठभेड़ में पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए, जबकि तीन आतंकी भी मारे गए थे। रविवार शाम मुठभेड़ समाप्त होने के बाद घटनास्थल से दो स्थानीय आतंकियों के शव बरामद किए गए थे। तीसरे आतंकी की तलाश जारी थी। सोमवार सुबह तीसरे आतंकी के शव को भी बरामद कर लिया गया। फिलहाल, उसकी पहचान नहीं हो पाई है। मलबे से आतंकियों के हथियार और गोलाबारूद भी मिले हैं। आइजी सीआरपीएफ रविदीप साही ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि आतंकी की अभी पहचान नहीं हो पाई है। मलबे से तीन एके 47 राइफलें और आठ हथगोले बरामद किए गए हैं।

उधर, मुठभेड़ में मारे गए जैश आतंकी मंजूर अहमद व फरदीन को उनके पैतृक इलाकों में दफनाया गया। दोनों आतंकियों को दफनाने के तुरंत बाद त्राल व द्रबगाम में लोगों ने रैलियां निकालने की कोशिश की। सुरक्षाबलों के रोकने पर हिंसक झड़पें शुरू हो गई। त्राल में झड़पों के दौरान कोई घायल नहीं हुआ, लेकिन द्रबगाम में सुरक्षाबलों को उस समय गोली चलानी पड़ी जब वहां प्रदर्शनकारियों ने सड़कों से रुकावटों को हटाकर मुरन चौक की ओर मार्च करने की कोशिश की। सुरक्षाबलों की फाय¨रग में एक युवक घायल हो गया। उसे पहले जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने श्रीनगर के एसएमएचएस अस्पताल रेफर कर दिया। डॉक्टरों के अनुसार अब उसकी स्थिति स्थिर है।

इस बीच, पुलवामा क्षेत्र में हड़ताल रही। पूरे जिले में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई थी। एहतियातन बनिहाल-श्रीनगर रेल सेवा स्थगित रही, लेकिन श्रीनगर-बारामुला रेल सेवा सामान्य रूप से जारी रही। मरने से पहले नाबालिग आतंकी का वीडियो जारी-कहा जब यह आपके पास होगा, मैं दुनिया में नहीं रहूंगा

पुलवामा के लेथपोरा इलाके में स्थित केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कैंप पर हमला करने वाले तीन आतंकियों में एक सोलह वर्ष का लड़का भी था। इस आतंकी का एक वीडियो सोमवार को वायरल हुआ। इसमें वह कश्मीरी युवाओं को भारतीय सेना के खिलाफ भड़का रहा है। सोलह वर्षीय फरदीन अहमद खांडे जोकि पुलिस कांस्टेबल का बेटा है, वह वीडियो में तीन राइफलों और गोला बारूद के बीच बैठा हुआ है। वह कह रहा है कि जब तक यह वीडियो आपके पास पहुंचेगा, वह इस दुनिया को अलविदा कह चुका होगा। आठ मिनट के वीडियो में उसने कहा कि ऐसा बताया जा रहा है कि कश्मीर के युवा बेरोजगारी के कारण आतंकवाद की राह पर हैं, लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है। यह केवल दुष्प्रचार है। उसने कहा कि इस्लाम जीने का सही रास्ता है। एक मुस्लिम के लिए जिहाद फर्ज है। उसे आतंकवाद में शामिल होना चाहिए। जिहाद तब जरूरी है जब कोई हमारी जमीन पर अतिक्रमण करता है और हमारी महिलाओं की इज्जत दांव पर लगती है।

उर्दू भाषा में उसने कहा कि जिहाद तब तक जारी रहेगा जब तक भारत का अंतिम सिपाही कश्मीर में मौजूद रहेगा। तीन महीने पहले ही आतंकवाद में शामिल हुए खांडे ने कहा कि कश्मीर के प्राकृतिक स्रोतों को लूटा जा रहा है। हिज्ब कमंाडर बुरहान वानी के गांव त्राल के रहने वाले आतंकी ने पठानकोट, नगरोटा, जिला पुलिस लाइन पुलवामा पर हुए हमलों का भी जिक्र किया।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप