श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में एक 25 वर्षीय गर्भवती महिला की एमसीएच अस्पताल शीरबाग में संदिग्ध हालात में मौत हो गई। परिजनों ने अस्पताल के डाॅक्टरों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। परिजनों के अनुसार शोभी जान पत्नी मोहम्मद हुसैन बट्ट निवासी सरनल अनंतनाग 25 जून की सुबह अस्पताल में बिलकुल स्वस्थ चलते हुए डॉक्टरों की सलाह पर भर्ती हुई। वह गर्भवती थी। प्रसव से पहले डॉक्टरों ने उसे चाय और स्नेक्स लेने के लिए कहा। प्रसव का समय दोपहर दो बजे के आसपास निर्धारित किया गया। परिजनों का आरोप है कि निर्धारित समय के दौरान कोई भी डॉक्टर गर्भवती महिला को देखने के लिए नहीं आया। वह डाॅक्टरों का इंतजार ही करती रही।

गर्भवती महिला के साथ मौजूद एक महिला तीमारदार ने बताया कि उसने पाया कि गर्भ में किसी भी प्रकार की हलचल नहीं है। वह डॉक्टरों को बताने के लिए वहां से दौड़ी लेकिन किसी ने भी उसकी सुध नहीं ली। रात को 11 बजे तक शाेभी डॉक्टरों का इंतजार करती रही। इसके बाद उसे डॉक्टर लेबर रूम में ले गए। इस दौरान किसी भी परिजन को अंदर जाने की इजाजत नहीं दी गई। सुबह तड़के तीन बजे उसे आपरेशन थियेटर में ले गए और घंटों आपरेशन थियेटर का दरवाजा नहीं खोला। परिजनों का कहना है कि सुबह 6.30 बजे जब पुलिस मौके पर पहुंची तभी आपरेशन थियेटर का दरवाजा खोला गया।

परिजनों ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों ने शोभी की हत्या की है और संबंधित डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। इस मांग को लेकर उन्होंने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन भी किया। अस्पताल की मेडिकल सुपरिंटेडेंट एमवाई जग्गू का कहना है कि इस मामले की जांच के लिए तीन डॉक्टरों की कमेटी गठित की गई है। कमेटी में डॉ अकिला, डॉ मसर्रत और डॉ अंजिल को शामिल किया गया है। टीम को रिपोर्ट जल्दी से जल्दी देने के लिए कहा गया है। टीम की रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई होगी। वहीं पुलिस ने भी मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप