राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : कश्मीर घाटी के बाद अब आतंकी संगठनों ने जम्मू संभाग के जिला डोडा में युवकों को गुमराह कर उन्हें आतंकवाद के रास्ते पर धकेलने की साजिश तेज कर दी है। वीरवार को एक और युवक के आतंकी बनने का मामला प्रकाश में आया है। इसके साथ ही डोडा में पिछले दो माह में आतंकी बनने वाले युवकों की तादाद चार हो गई है। तीन युवक पिछले दस दिनों में ही आतंकी बने हैं।

सूत्रों ने बताया कि आतंकियों की जमात में शामिल होने वाला डोडा के इस नए लड़के का नाम निसार बताया जाता है। यह लश्कर का आतंकी बना है और इसका कोड नाम अबु मूसा है। निसार अहमद 25 अगस्त से आतंकी संगठन में सक्रिय है, लेकिन उसके आतंकी बनने की पुष्टि आज सोशल मीडिया पर उसकी तस्वीर के वायरल होने से हुई है। पुलिस ने उसके आतंकी बनने की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है।

डोडा के युवकों के आतंकी बनने की तरफ सुरक्षा एजेंसियों का ध्यान पहली जुलाई को उस समय गया जब साजान डोडा का रहने वाला आबिद हुसैन बट आतंकी बना। वह 25 जुलाई को अनंतनाग में एक अन्य आतंकी संग सुरक्षाबलों के हाथों मारा गया था। उसके बाद तीन दिन पहले घटट डोडा के हारुन अब्बास वानी के आतंकी बनने का खुलासा हुआ है। डोडा के एक संभ्रांत परिवार से ताल्लुक रखने वाला हारुन एमबीए है। हारुन के आतंकी बनने के अगले दिन मनजामी डोडा के मसूद अहमद ने आतंकी बनने का एलान कर दिया। अब ताजा मामला निसार अहमद का है।

डोडा में युवकों के आतंकी बनने के बढ़ रहे मामलों से सुरक्षा एजेंसियां भी सकते में आ गई हैं। उन्होंने इस इलाके में सक्रिय राष्ट्रविरोधी तत्वों और आतंकियों के साथ सहानुभूति रखने वाले तत्वों की निगरानी शुरू कर दी है। राज्य पुलिस महानिदेशक डॉ. एसपी वैद ने कहा कि पाकिस्तान यहां हमारी रियासत में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है। यह तथ्य सभी जानते हैं। कश्मीर घाटी के बाद वह अब जम्मू संभाग में भी ¨हसा और अराजकता का माहौल पैदा करना चाहता है, लेकिन हम उसके मंसूबों को नाकाम बना देंगे। डोडा में जो युवक अभी तक आतंकी बने हैं, उनमें से अधिकांश का किसी न किसी तरीके से पुराने आतंकियों से कोई संबंध रहा है या फिर वह कश्मीर घाटी में सक्रिय धर्माध जिहादी मानसिकता वाले लोगों से संपर्क में थे।े

Posted By: Jagran