श्रीनगर, राज्य ब्यूरो : केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले ने वीरवार को कहा कि भारत के साथ संबंध सुधारना और शांति बनाए रखना पाकिस्तान के अपने हित में है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकता जम्मू कश्मीर में शांति, सुरक्षा,सौहार्द और विश्वास एवं विकास के वातावरण की बहाली है। इसके लिए सभी आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं। इनसे हालात सुधर रहे हैं यही कारण है कि इस वर्ष यहां लाखों पर्यटकों का आगमन और विभिन्न क्षेत्रों में 56 हजार करोड़ रूपये का निवेश इसका सुबूत है। जम्मू कश्मीर की जनता के समग्र और समन्वित विकास के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

पत्रकारों से बातचीत में केंद्रीय राज्यमंत्री रामदास अठावले ने कहा केंद्र के प्रयासों से ही आज यहां शांतिपूर्ण माहौल है,जिससे प्रभावित होकर देश विदेश से लाखों की तादाद में पर्यटक कश्मीर घूमने आए हैं। यह एक सकारात्मक संकेत है जो पर्यटन क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के विकास के साथ साथ स्थानीय युवाओं के लिए रोजगार के विभिन्न अवसर भी पैदा कर रहा है। उन्होंने कहा जम्मू कश्मीर में देश विदेश से निजी निवेश को लगातार आकर्षित किया जा रहा है ताकि जम्मू कश्मीर को रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में नहीं जाना पड़े, उन्हें अपने ही प्रदेश में रोजगार के पर्याप्त अवसर मिलें।

पाकिस्तान हालात बिगाड़ने के लिए रच रहा षड्यंत्र : उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का एक अभिन्न अंग था, है और रहेगा। पाकिस्तान ने यहां हालात बिगाड़ने के लिए हर संभव षडयंत्र किया है, लेकिन कश्मीर के लोगों ने उसके हर षडयंत्र को सुरक्षाबलों के साथ मिलकर विफल बनाया है। पांच अगस्त 2019 के बाद से जम्मू कश्मीर के लोगों ने सही मायनों में लोकतंत्र और विकास का स्वाद चखा है। यहां जो शोषणवादी और अवसरवादी राजनीति व सत्ता थी, समाप्त हुई है। अब यहां जमीनी स्तर पर लोकतंत्र मजबूत हो रहा है।

बातचीत सिर्फ जम्मू कश्मीर की जनता से ही होगी : पाकिस्तान के साथ वार्ता संबंधी सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि गृहमंत्री पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं, बातचीत सिर्फ जम्मू कश्मीर की जनता से ही होगी। पाकिस्तान को अगर अपना अस्तित्वबचाना है,उसे गरीबी और पिछड़ेपन से मुक्त होकर अगर विकास के पथ पर बढ़ना है तो उसे जम्मू कश्मीर में आतंक और अलगाववाद को समर्थन देना बंद करना होगा। भारत के साथ संबंध सुधारना और शांति बनाए रखना पाकिस्तान के अपने हित में है।

2019 से पहले जम्मू कश्मीर में विकास के रास्ते लगभग बंद थे : उन्होंने कहा कि पांच अगस्त 2019 से पहले जम्मू कश्मीर में विकास के रास्ते लगभग बंद थे,जिन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से ही खोला गया है और आज यहां प्रधानमंत्री आवास योजना, जन धन योजना, मुद्रा, पीएम उज्ज्वला योजना, छात्रवृत्ति योजना जैसी केंद्र प्रायोजित सभी योजनाओं और कार्यक्रमों के अंतर्गत छात्रों, अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं बिना किसी रूकावट लागू हो रही हैं। जम्मू कश्मीर के सभी पात्र नागरिकि इन योजनाओं से लाभान्वित हो रहे हैं।

जन धन योजना के तहत 26 लाख खाते खोले गए : केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में कई केंद्रीय योजनाओं का शत-प्रतिशत क्रियान्वयन इस बात का गवाह है कि सरकार जम्मू-कश्मीर के लोगों को आवास, आजीविका आदि सभी मोर्चों पर सामाजिक स्थिरता प्रदान करने हेतु दृढ़ है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में सामाजिक कल्याण योजनाओं के कार्यान्वयन में तेजी आई है, जो इस तथ्य से स्पष्ट है कि जम्मू-कश्मीर में पीएम जन धन योजना के तहत 2014-2022 के बीच 26 लाख खाते खोले गए हैं। 2016-22 के बीच पीएम उज्ज्वला योजना के तहत, लाभार्थियों को 12 लाख 43 हजार गैस कनेक्शन आवंटित किए गए हैं, 2015-22 के बीच पीएम आवास योजना (शहरी) के तहत, जम्मू-कश्मीर में 15 हजार घरों का निर्माण किया गया है।

90 हजार घरों का निर्माण किया गया : पीएम आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 90 हजार घरों का निर्माण किया गया है, पीएम जन आरोग्य योजना के तहत, जम्मू-कश्मीर में 5.9 लाख और उजाला योजना के तहत 85 लाख एलईडी बल्ब जारी किए गए हैं। मंत्री ने बताया कि 2019-22 के बीच, नशामुक्ति केंद्रों की स्थापना के लिए वित्तीय सहायता के तहत देश भर में 1720 नशामुक्ति केंद्रों को वित्तीय मदद दी गई है और इनमें से 12 जम्मू कश्मीर में हैं।

Edited By: Rahul Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट