राज्य ब्यूरो, श्रीनगर: कश्मीर घाटी में आतंकियों द्वारा पुलिस कर्मियों और स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) को नौकरी छोड़ने की धमकी देने का मामला फिर सामने आया है। सोमवार को कुलगाम में आतंकियों ने एक एसपीओ को उसके घर में घुसकर पीटा दिया और उसे व अन्य पुलिसकर्मियों को नौकरी छोड़ने की धमकी दी। वहीं, दक्षिण कश्मीर में हमले की साजिश रच रहे जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने सोमवार को शोपियां में गिरफ्तार कर लिया। कुलगाम के टेंगबल गांव में सोमवार को स्वचालित हथियारों से लैस आतंकी पुलिस के एपीओ आदिल बशीर के घर में घुस गए और पिटाई कर दी।

आतंकियों ने घर में तोड़फोड़ भी की। उन्होंने धमकी दी कि वह पुलिस की नौकरी छोड़ दे। आतंकियों ने ऐसा ही अन्य पुलिसकर्मियों और एसपीओ को भी नौकरी छोड़ने की धमकी दी। इसके बाद वह फरार हो गए। जख्मी एसपीओ ने उच्च अधिकारियों को सूचित करते हुए निकटवर्ती पुलिस चौकी में शिकायत दर्ज करायी। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने एसपीओ पर हमला करने वाले आतंकियों की धरपकड़ के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी करते हुए तलाशी अभियान चलाया है। शोपियां में पुलिस को पता चला था कि जैश के दो स्थानीय ओवरग्राउंड वर्कर अब सक्रिय आतंकी बनने जा रहे हैं। यह दोनों सोमवार को वाची इलाके में सुरक्षाबलों पर हमला करने की फिराक में थे। इसके बाद ये आतंकी संगठन का हिस्सा बन जाते।

खबर मिलते ही पुलिस ने सेना और सीआरपीएफ के जवानों के साथ मिलकर वाची और उससे सटे इलाकों में नाके लगाए। इसी दौरान वाची पेट्रोल पंप के पास सुबह दो युवकों को संदिग्ध हालात में घूमते देखा। नाके पर तैनात जवानों ने उन्हें रुकने का संकेत किया, लेकिन वह पास के खेतों की तरफ भागने लगे। इस पर उन्हें दबोच लिया गया। पकड़े गए जैश के दोनों आतंकी जहूर अहमद कोका निवासी मलूरा और उजैर अहमद इलाके के ही वंडिना गांव के रहने वाले हैं। दोनों से एक पिस्तौल, आठ कारतूस और दो ग्रेनेड मिले हैं। पूछताछ में उन्होंने खुद को जैश से जुड़े होने की बात कुबूल की। बताया कि वह वाची कस्बे के मुख्य चौराहे पर तैनात एक नाका पार्टी पर हमला करने जा रहे थे। उनसे मिले सुरागों के आधार पर शोपियां व उसके साथ सटे इलाकों में सक्रिय आतंकियों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया गया है।

सोपोर में घर-घर तलाशी अभियान उत्तरी कश्मीर के सोपोर में पुलिस ने सेना और सीआरपीएफ के साथ बहरामपोरा व आरमपोरा इलाके को घेरकर तलाशी अभियान चलाया है। घर-घर जाकर तलाशी ली है। पुलिस को पता चला था कि आतंकियों का एक दल बहरामपोरा व आरमपोरा के बीच घूम रहा है। यह आतंकी गत शनिवार को नूरबाग में सीआरपीएफ कर्मियों पर हमले की वारदात से जुड़े हो सकते हैं। इस हमले में सीआरपीएफ के तीन कर्मी शहीद हुए थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस