राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने सोमवार को पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों को धमकाते हुए कहा कि आतंकियों और उनके लिए काम करने वालों के परिवारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। अगर कार्रवाई हुई तो सुरक्षाकर्मियों के परिजनों को भी निशाना बनाया जाएगा।

लश्कर ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो संदेश को वायरल किया है। वीडियो में लश्कर का एक आतंकी जिसका नाम वारिस है, ने पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों से कहा कि मुजाहिदों (कश्मीर में आतंकियों को मुजाहिद कहते हैं) से उनके घर में मत लड़ो और न उनके घरों में जाकर उनके परिजनों को तंग करो नहीं तो आप लोगों को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। हम जब जवाबी कार्रवाई करेंगे तो आप अपने घर और परिजनों का बचाव नहीं कर पाओगे।

लश्कर कमांडर ने कहा कि हमें पता है कि कौन सा पुलिस अधिकारी और जवान कहां रहता है, उसके घर में कौन-कौन हैं। हमें पता है कि आप लोग हमारे घरों में तोड़फोड़ कर रहे हो। हमारे परिजनों को तंग कर रहे हो। हम गुजारिश करते हैं कि ऐसा न करें। अगर यह तरीका बंद नहीं किया तो फिर अपनी मौत के लिए तैयार रहो।

कुरान की आयतों का हवाला देते हुए आतंकी कमांडर कहता है कि हमें हमारा मजहब पुलिस व फौज के अधिकारियों के घरवालों के खिलाफ कार्रवाई से रोकता है। अगर हम बदले की कार्रवाई पर उतर आएं तो यहां भारतीय सुरक्षाबलों से जुड़े लोगों और ¨हद नवाज सियासी जमातों से जुड़े किसी सियासतदान का मकान नहीं बचेगा।

लश्कर कमांडर ने कहा कि कश्मीर के लोग अच्छी तरह जानते हैं कि कौन उसका दोस्त है और कौन दुश्मन। गौरतलब है कि पिछले दिनों शोपियां के मोलू चित्रीगाम और कुलगाम में आतंकियों की धरपकड़ के लिए चलाए गए अलग-अलग अभियानों के दौरान सुरक्षाबलों ने हिज्ब के आतंकी तारिक शमीम शेख और आजाद अहमद दादा के घरों की तलाशी ली थी। लोगों ने दावा किया है कि इन सुरक्षाबलों ने आतंकी कमांडरों के घरों में घुसकर तोड़फोड़ करने के अलावा उनके परिजनों से मारपीट भी की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप