राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : कश्मीर में सोमवार सुबह अनुच्छेद 35ए हटाने की अफवाह से पूरी वादी में तनाव फैल गया। अचानक सभी दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद हो गए और जगह-जगह पुलिस व शरारती तत्वों के बीच ¨हसक झड़पें शुरू हो गईं, जिनमें 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए। इनमें दो दर्जन के करीब लोग जिला शोपियां में ही जख्मी हुए हैं। पुलिस ने बार-बार अपील कर लोगों से शांति बनाए रखने और अफवाहों पर ध्यान न देने के लिए कहा, लेकिन हालात पर कोई ज्यादा असर नहीं हुआ। इस बीच, हालात को देखते हुए प्रशासन ने पूरी वादी में पुलिस और अ‌र्द्धसैनिकबलों की अतिरिक्त टुकड़यिों को तैनात कर दिया है।

35ए जम्मू कश्मीर विधानसभा को स्थानीय नागरिकों के लिए विशेषाधिकार यकीनी बनाने और गैर रियासती लोगों को जम्मू कश्मीर में राज्य सरकार की नौकरियां प्राप्त करने, जमीन खरीदने व उसके मालिकाना हक हासिल करने से वंचित करने का अधिकार देती है। इस संवैधानिक प्रावधान को रद कराने के लिए सर्वाेच्च न्यायालय में एक याचिका पर सुनवाई 31 अगस्त को होनी है। इसके विरोध में अलगाववादी संगठनों के साझा मंच ज्वाइंट रेजिस्टेंस लीडरशिप ने 30 व 31 अगस्त को वादी में कश्मीर बंद का आह्वान कर रखा है। इस बीच, आज भाजपा नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय ने इस मामले एक नई याचिका दायर की, जिसे स्वीकारने या नकारने का फैसला सर्वोच्च न्यायालय ने लेना है। इसे लेकर किसी ने अफवाह फैला दी कि अनुच्छेद 35ए पर सर्वाेच्च न्यायालय में सुनवाई हो रही और इसे हटा दिया गया है, जिससे वादी में हालात बदल गए।

अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा और ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में ही नहीं सोपोर, बारामुला, बांडीपोर, गांदरबल, कंगन और कुपवाड़ा में बाजार बंद हो गए। हालात को देखते हुए स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया। 35ए के समर्थन में कई लोग सड़कों पर आ गए और उन्होंने भड़काऊ नारेबाजी करते हुए सुरक्षाबलों पर पथराव किया। सबसे ज्यादा ¨हसक झड़पें अनंतनाग, पुलवामा, शोपियां, श्रीनगर और सोपोर में हुईं। ¨हसक प्रदर्शनकारियों में कई जगह कॉलेज छात्र भी नजर आए। ¨हसक तत्वों पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठियों, आंसूगैस, मिर्ची बम और पैलेट गन का सहारा लेना पड़ा।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुनीर अहमद खान ने कहा कि किसी शरारती तत्व ने आज अनुच्छेद 35ए पर अफवाह फैला दी। हालांकि हमने अफवाह का खंडन किया, लेकिन तब तक कई इलाकों में शरारती तत्वों ने जबरन बंद कराते हुए ¨हसा भी शुरू कर दी थी। हम इन अफवाहों की जांच कर रहे हैं और शरारती तत्वों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा।

Posted By: Jagran