जागरण संवाददाता, राजौरी। राजौरी के खेवहरा क्षेत्र में 18 जनवरी को मिली आइईडी के मामले में पुलिस तीन लोगों ने पूछताछ कर रही है जिसमें एक सरकारी अध्यापक भी शामिल है। जानकारी के अनुसार सरकारी अध्यापक व इसका एक साथी जो नशे के आदी है। इन्होंने 18 जनवरी को पुंछ के बालाकोट क्षेत्र के रहने वाले व्यक्ति से नशीले पदार्थ लिया, जैसे ही इन्होंने डिब्बा खोला तो उसके अंदर आइईडी लगी हुई थी। उसी समय दोनों डर गए और उन्होंने आइईडी को खेवहरा में खाली मैदान में रखकर पुलिस को सूचित किया और पूरी कहानी बता दी।

पुलिस ने उसी समय मौके पर पहुंच कर आइईडी को बरामद कर लिया। उसके बाद पुलिस ने दोनों युवकों से पूछताछ शुरू कर दी और पूछताछ में बालाकोट के रहने वाले व्यक्ति रफीक का नाम सामने आया। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया जो गुलाम जम्मू व कश्मीर में बैठे हैंडलर के संपर्क में था। उसी की निशानदेही पर पुलिस ने बीस जनवरी को दस्सल क्षेत्र से दो आइईडी बरामद की और उन्हें उसी रात को निष्क्रिय कर दिया। अब पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है और राजौरी में धमाकों को अंजाम देने के लिए रफीक का नाम ही सामने आ रहा है जो लगातार धमाके करवाने की फिराक में था और गुलाम जम्मू व कश्मीर से उसे राजौरी में धमाके करवाने के लिए बार बार कहा जा रहा था। रफीक सीमा पार से नशीले पदार्थ लाता है और यहां पर इसका कारोबार लंबे समय से करता आ रहा है। कुछ समय पहले मेंढर से दो बहने नशीले पदार्थ के साथ पकड़ी गई थी उन्हें भी रफीक ने ही नशीला पदार्थ दिया था।

यह भी पढ़ें - J&K News: भारत जोड़ो यात्रा के लिए श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम- सीआरपीएफ

यह भी पढ़ें - Republic Day: बारामूला में निकाली गई तिरंगा रैली, हाथों में झंडा लिए लोगों ने लगाए 'भारत माता की जय' के नारे

Edited By: Nidhi Vinodiya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट