श्रीनगर, एएनआइ। Jammu Kashmir Weather Update जम्मू-कश्मीर का मौसम अपने पूरे खुमार पर हैं चारों तरफ बर्फ की सफेद चादर बिछी हुई है, पहाड़ों की चोटियां बर्फ से लदी हुई है। ताजा मिली जानकारी के अनुसार बर्फबारी को देखने के लिए पर्यटक नत्थाटॉप पहुंच रहे हैं। श्रीनगर में खराब मौसम की वजह से हाईवे जाम है, जम्मू और श्रीनगर के बीच संपर्क भी टूट गया है। श्रीनगर के कई इलाकों में टेलीफोन लाइनें भी बर्फबारी की वजह से ठप पड़ी हैं। 

बारिश के आसार

पश्चिमी विक्षोभ के चलते राज्य में वीरवार से बारिश के आसार बन रहे हैं। तीन दिनों से बारिश न होने के बाद मंगलवार को जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय राजमार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए आंशिक तौर पर खोल दिया गया। इस राजमार्ग पर अभी उन्हीं वाहनों को गुजरने की इजाजत दी जा रही है, जो फंसे हुए हैं। पुंछ से श्रीनगर को जोडऩे वाले मुगल रोड पर अभी भी बर्फ हटाने का काम जारी है।

ट्रैफिक विभाग का कहना है कि इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही सुनिश्चित बनाने के लिए अभी और समय लग सकता है। इस बीच मंगलवार को दिनभर बादल छाए रहे। पिछले दिनों हुई बारिश और बर्फबारी का प्रभाव अभी भी दिख रहा है। कश्मीर में अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे चल रहा है। जम्मू संभाग में जम्मू को छोड़ दूसरे सभी क्षेत्रों में तापमान सामान्य से नीचे चल रहा है। घाटी में दो दिनों से बर्फबारी नहीं हुई है और जम्मू संभाग में भी मौसम साफ है।

प्रशासन ने रामबन में राजमार्ग पर गिरी पस्सियों को मंगलवार सुबह तड़के ही हटा दिया था। यातायात के लिए बेहतर होने के बाद वाहनों को वहां से गुजरने की इजाजत दी गई। ट्रैफिक विभाग अभी उन्हीं वाहनों को सड़कों पर उतरने दे रहा है, जो तीन दिनों से फंसे हुए थे। इन वाहनों की संख्या सात हजार से अधिक है। इनमें अधिकतर वे ट्रक हैं, जो खाद्य सामग्री लेकर कश्मीर व लद्दाख जा रहे हैं। मौसम विज्ञान केंद्र श्रीनगर के अनुसार, बुधवार को भी बादल छाए रहेंगे। सुबह हल्के बादलों के बाद शाम से बादल छाने लगेंगे।

हिमपात से निपटने के लिए चार करोड़

ग्रीष्मकालीन राजधानी और उसके साथ सटे इलाकों में हिमपात के दौरान आपात स्थिति से निपटने के लिए राज्य प्रशासन ने संबंधित विभागों को चार करोड़ की राशि जारी की है। मौसम विभाग ने वादी में एक बार फिर 14 से 16 नवंबर तक भारी हिमपात की चेतावनी दी है। अधिकारियों ने बताया कि जिला उपायुक्त श्रीनगर डॉ. शाहिद इकबाल चौधरी ने गत सप्ताह हिमपात से हुए नुकसान को देखते हुए और मौसम के दोबारा बिगडऩे की चेतावनी का संज्ञान लेते हुए प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक बुलाई, जिसमें हिमपात के दौरान आवश्यक सेवाओं को निर्विघ्न रूप से बहाल रखने के उपायों का जायजा लिया। इसके साथ ही बेमिना मे सेंट्रल डिजास्टर मैनेजमेंट रिस्पांस स्टोर भी स्थापित करते हुए एक नोडल अधिकारी भी नियुक्त किया गया है, जो समन्वय बनाते हुए आपदा प्रबंधन के लिए आवश्यक साजोसामान जारी करेगा।

दुश्मन को ‘घर में घुसकर मारेंगे’ आइबीजी के लड़ाके, भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर होगी तैनाती

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस