राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : उत्तरी कश्मीर के सोपोर में मंगलवार को आतंकी हमले में सीआरपीएफ के तीन जवानों और एक नागरिक समेत चार लोग घायल हो गए। आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। सुरक्षाबलों ने हमले में लिप्त आतंकियों को पकड़ने के लिए व्यापक तलाशी अभियान चला रखा है।

जानकारी के अनुसार, सोपोर के तारजू इलाके में संग्रामा चौक से गुजर रहे सीआरपीएफ की 177वीं वाहिनी की डेल्टा कंपनी के जवानों पर भीड़ में छिपे बैठे आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया। इसमें तीन जवान और एक नागरिक जख्मी हो गए। ग्रेनेड फटने से मची अफरा तफरी के बीच आतंकी भी भाग निकले। हमले की सूचना मिलते ही निकटवर्ती पुलिस चौकी और शिविरों से पुलिस और सीआरपीएफ के जवान भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने सभी घायलों को निकटवर्ती अस्पताल पहुंचाने का बंदोबस्त करते हुए आतंकियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली। अस्पताल में उपचाराधीन घायल नागरिक की पहचान हिलाल अहमद खांडे पुत्र अब्दुल क्यूम खांडे के रूप में हुई है। वह सोपोर का ही रहने वाला है। घायल सीआरपीएफ कर्मियों में कांस्टेबल राधे शाम, कांस्टेबल शकील और कांस्टेबल धर्मदास शामिल हैं।

एसएसपी सोपोर जावेद इकबाल ने बताया कि हमले में शामिल कुछ संदिग्ध तत्वों की निशानदेही कर ली गई है। उनकी धरपकड़ का अभियान जारी है। इस बीच, लश्कर के प्रवक्ता डॉ. अब्दुल्ला गजनवी ने एक बयान जारी कर सोपोर हमले की जिम्मेदारी लेते हुए और हमलों की धमकी दी है।

Posted By: Jagran