श्रीनगर, एएनआइ। लद्दाख में शुक्रवार को शाम 4:27 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.4 मापी गई। हालांकि भूकंप से जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। इधर, भूकंप के झटके महसूस होते ही लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। चारों ओर अफरातफरी मच गई। लोगों ने अपने पारिवारिक सदस्यों, परिचितों व रिश्तेदारों को भूकंप से अवगत कराया। गौरतलब है कि इससे पहले भी हाल ही में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित देश और विदेश में कई जगहों पर भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। हालांकि कहीं पर भी किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ। 

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को फिर से भूकंप के झटके महसूस किए गए। इस दौरान लोग अपने घरों से बाहर आ गए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार सुबह 8:19 बजे जम्मू- कश्मीर के गुलमर्ग में 3.7 तीव्रता का भूकंप आया है। इससे पहले मंगलवार को भी जम्मू-कश्मीर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। लोग धरती हिलते ही अपने घरों से बाहर आ गए। इससे पहले भी 11 सितंबर को जम्मू-कश्मीर में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.3 रही। हालांकि झटके बहुत तेज नहीं थे लेकिन जब लोगों को महसूस हुए तो वह अपने घरों से बाहर निकल आए। बताया जा रहा है कि इस भूकंप का केंद्र भारत-पाकिस्ताना का बॉर्डर बताया गया था। भूकंप 11 सितंबर को दोपहर 1.53 बजे आया था। इसकी गहराई धरती से 10 किलोमीटर नीचे थी। भूकंप के लिहाज से जम्मू-कश्मीर संवेदनशील इलाके में आता है। भूकंप से पूर्व में कई बार कश्मीर में तबाही आ चुकी है। आठ अक्टूबर 2005 के दिन कश्मीर में 7.6 तीव्रता वाला भूकंप आया था। इसमें भारत और पाकिस्तान के 80 हजार लोग मारे गए थे।

श्रीनगर में मंगलवार को आए भूकंप के झटके पर आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि भूकंप का झटका रात नौ बजकर 40 मिनट पर आया और इसका केंद्र श्रीनगर में जमीन से पांच किलोमीटर नीचे स्थित था। भूकंप से अभी तक किसी क्षति या किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। भूकंप के झटके कश्मीर घाटी के अधिकतर क्षेत्रों में महसूस किये गए। जम्‍मू-कश्‍मीर के श्रीनगर में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.6 मापी गई। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, भूकंप के झटके नौ बजकर 40 मिनट पर महसूस किए गए, जिसके बाद काफी लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। हालांकि, भूकंप से जानमाल का नुकसान हुआ है या नहीं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है।

इस महीने में जम्‍मू-कश्‍मीर दूसरी बार भूकंप के झटकों से दहला है। इससे पहले 11 सितंबर को जम्मू-कश्मीर में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए थे। हालांकि, इन हल्‍के झटकों ने भी जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के दिलों में दहशत पैदा कर दी थी। तब भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.3 रही थी। भूकंप के ये झटके बहुत तेज नहीं थे, लेकिन इसके बावजूद जब लोगों को महसूस हुए, तो वे घरों से बाहर निकल आए। इस दौरान किसी तरह के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था। इस भूकंप का केंद्र भारत-पाकिस्ताना का बॉर्डर बताया गया था। ये दोपहर 1 बजकर 53 मिनट पर आया था। दरअसल, इस भूकंप की गहराई धरती से 10 किलोमीटर नीचे थी, इसलिए कोई नुकसान नहीं हुआ था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस