राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : राज्य में चिकन महंगा हो सकता है। सरकार पोल्ट्री उद्योग को बढ़ावा देने के लिए अन्य राज्यों से लाए जाने वाले ¨जदा मुर्गो और मुíगयों पर चुंगी कर नौ रुपये प्रति किलो बढ़ाकर 14 रुपये प्रति किलो करने की योजना बना रही है। पशु एवं भेड़ प्रजनन और मछली पालन विभाग के प्रधान सचिव डॉ. असगर हसन सामून ने वीरवार को वित्त विभाग को एक प्रस्ताव जल्द तैयार कर प्रशासन को सौंपने का निर्देश दिया है।

डॉ. असगर हसन सामून ने पोल्ट्री उद्योग से जुड़े मुद्दों के समाधान के लिए निदेशक पशुपालन विभाग कश्मीर, निदेशक उद्योग एवं वाणिज्य विभाग कश्मीर, निदेशक योजना पशु एवं भेड़ प्रजनन, संयुक्त निदेशक पोल्ट्री कश्मीर, कोर ग्रुप मेंबर पोल्ट्री और मुर्गी पालन में जुटे किसानों के प्रतिनिधियों, जम्मू पोल्ट्री एसोसिएशन और कश्मीर चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

बैठक में प्रधान सचिव पशु एवं भेड़ प्रजनन और मछली पालन विभाग डॉ. सामून ने बताया कि रियासत में पोल्ट्री उद्योग के विकास की बहुत संभावना है। इस क्षेत्र में युवाओं के लिए रोजगार के कई अवसर हैं। राज्य में हर साल एक दिन में एक करोड़ चूजों के अलावा 80 करोड़ अंडों का आयात होता है, लेकिन इनकी गुणवत्ता के बारे में कोई दावा नहीं किया जा सकता। हमारी रियासत में 3500 पोल्ट्री किसान हैं और उन्हें अपने पोल्ट्री फार्म को विकसित करते हुए एक दिन के चूजे, अंडों और पोल्ट्री फीड व लेयर की पर्याप्त मात्रा में पैदावार को यकीनी बनाना चाहिए। अगर हमारे किसान व अन्य उद्योगपति इस क्षेत्र में निवेश करें तो न सिर्फ रियासत में बेरोजगारी की समस्या को एक हद तक हल किया सकेगा बल्कि राज्य की आय में भी बढ़ोतरी होगी।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल प्रशासन रियासत में पोल्ट्री उद्योग के विकास के लिए हर संभव कदम उठा रहा है। औद्योगिक नीति में पोल्ट्री पॉलिसी का सामान्य रूप से जिक्र है,लेकिन यह अलग तरीके से परिभाषित होनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि आवश्यक्ता होने पर राज्यपाल के साथ इस मुददे पर चर्चा की जाएगी।

उन्होंने कश्मीर में फीड प्लांट की कमी का जिक्र करते हुए कहा कि पोल्ट्री किसानों की सहकारी समितियां भी बना सकते हैं। उन्होंने पोल्ट्री इंडस्टी को बढ़ावा देने के लिए स्लाटरहाउस, ड्रे¨सग प्लांट व अन्य सुविधाओं के विकास पर जोर देते हुए वित्त विभाग को बाहर से आयात किए जाने वाले मुर्गे, मुíगयों पर मौजूदा चुंगी कर प्रति किलो नौ रुपये से बढ़ाकर 14 रुपये प्रति किलो करने के प्रस्ताव को भी तैयार करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होंने राज्य में कुछ लोगों द्वारा मुíगयों के राज्य से बाहर से आयात के लिए जरूरी लाईसेंस को गैर रियासती लोगों को बेचे जाने की शिकायतों का संज्ञान लेते हुए कहा कि ऐसा करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने उत्तरी और दक्षिण कश्मीर में पोल्ट्री मंडियां स्थापित करने के भी निर्देश जारी किए।

Posted By: Jagran