राज्य ब्यूरो, श्रीनगर: जम्मू कश्मीर पुलिस की अपराध शाखा कश्मीर ने मंगलवार को लगभग 14 वर्ष पुराने फर्जी स्टांप मामले में संलिप्त दो आरोपितों के खिलाफ चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट गांदरबल की अदालत में आरोप पत्र दायर कर दिया है। इस मामले में 16 लाख रुपये मूल्य के फर्जी स्टांप पेपर बरामद किए गए थे।

अपराध शाखा के प्रवक्ता ने बताया कि यह मामला वर्ष 2007 में दर्ज किया गया था। उस समय सदर कोर्ट श्रीनगर में एक न्यायिक अधिकारी ने अपराध शाखा को सूचित किया था कि जमीन के एक हिस्से की खरीद के लिए जो स्टांप पेपर लाए गए हैं, वह फर्जी प्रतीत होते हैं। इस शिकायत का संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया गया और सदर कोर्ट मार्ग पर स्टांप पेपर बेचने वाले सैयद शौकत हुसैन पकड़ा गया। इसके बाद दो और स्टांप पेपर विक्रेता गंजफर और खिजर मोहम्मद को भी पकड़ा गया। पूछताछ में जावेद अहमद और खुर्शीद अहमद का भी नाम आया। इन्हें भी अनंतनाग से गिरफ्तार कर लिया गया। यह दोनों ही कथित तौर पर इस पूरे नेटवर्क को चला रहे थे। इनका एक साथी फैयाज अहमद बाद में पकड़ा गया। पुलिस ने इनके कब्जे से करीब 16 लाख रुपये मूल्य के फर्जी स्टांप पेपर पकड़े थे। प्रत्येक फर्जी स्टांप पेपर का मूल्य एक हजार रुपये था। यह गिरोह सरकारी खजाने को भारी नुकसान पहुंचा रहा था।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले में एक आरोप पत्र पहले भी श्रीनगर की अदालत में दायर किया जा चुका है। अब मंगलवार को चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की अदालत में सैयद शौकत और जावेद अहमद के खिलाफ आरोप पत्र दायर किए गए हैं।

Edited By: Jagran