राज्य ब्यूरो, श्रीनगर: पाकिस्तानी सेना ने शनिवार को एक बार फिर युद्धविराम का उल्लंघन कर उत्तरी कश्मीर में उड़ी सेक्टर के अंतर्गत एलओसी पर स्थित अग्रिम भारतीय सैन्य चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया। भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी की एक अग्रिम निगरानी मोर्चे के तबाह होने व उसके दो सैनिकों के जख्मी होने की सूचना है। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। वहीं, जम्मू संभाग के हीरानगर सेक्टर में भी पाकिस्तानी सेना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर गोलाबारी की।

उड़ी में पाकिस्तानी सैनिकों ने शाम करीब चार बजे गोलाबारी शुरू की। पाकिस्तानी सेना ने रुस्तक और पिका चौकी व इसके पास के गांवों को निशाना बनाया। भारतीय सैनिकों ने करीब 40 मिनट तक कोई जवाब नहीं दिया, लेकिन जब गोलाबारी की तीव्रता बढ़ने पर जवाबी प्रहार किया। इसके बाद दोनों तरफ से एक दूसरे के ठिकानों पर भीषण गोलाबारी शुरू हो गई।

सूत्रों ने बताया कि करीब छह बजे पाकिस्तानी सैनिकों की एक निगरानी मोर्चे से आग की लपटें निकलती देखी गई। जवाबी कार्रवाई में यह मोर्चा तबाह हुआ है और इसमें मौजूद पाकिस्तान के दो सैनिक जख्मी हुए हैं। सूत्रों ने बताया कि निगरानी मोर्चे के तबाह होने के बाद करीब एक घंटे तक तक पाकिस्तानी बंदूकें पूरी तरह शांत रही, लेकिन रात नौ बजे के करीब उन्होंने दोबारा गोलाबारी शुरू कर दी। भारतीय जवानों ने भी जवाबी प्रहार किया। देर रात गए तक दोनों तरफ से एक दूसरे के ठिकानों पर गोलाबारी जारी थी। सूत्रों ने पाकिस्तानी सेना की फायरिग में भारतीय सेना व नागरिकों को किसी प्रकार के नुकसान से इन्कार करते हुए कहा कि सभी अग्रिम बस्तियों में रहने वालों को पूरी सावधानी बरतने के लिए कहा गया है।

कठुआ से मिली सूचनाओं में बताया गया है कि हीरानगर सेक्टर के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ सटे मनयारी चोरगली इलाके में पाकिस्तानी रेंजरों ने बीते शुक्रवार की रात को बिना किसी उकसावे के गोलाबारी की। मनयारी-चोरगली में तैनात सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने भी पाकिस्तानी गोलाबारी का मुहंतोड़ जवाब दिया। दोनों तरफ से तड़के सवा चार बजे तक एक दूसरे के ठिकानों पर रुक-रुककर गोलाबारी जारी रही।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप