जेएनएन, जम्मू/श्रीनगर: पाकिस्तानी सेना और रेंजरों ने सोमवार की रात से मंगलवार तक अंतरराष्ट्रीय सीमा से लेकर नियंत्रण रेखा तक संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। भारतीय सैनिकों की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना को भारी नुकसान पहुंचा है। उड़ी सेक्टर में मंगलवार की देर रात तक दोनों तरफ से रुक-रुककर गोलाबारी जारी थी।

गुलाम कश्मीर में एलओसी पर हाजीपीर दर्रे के ऊपरी छोर लोन हट में चौकी पर बैठे पाकिस्तानी सैनिकों ने मंगलवार को उड़ी सेक्टर में भारतीय चौकी टिक्का और उसके साथ सटे गांवों पर शाम करीब सात बजे गोलाबारी शुरू की। सैन्य सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना की लोन हट चौकी के पास उसका बंकर जवाबी कार्रवाई में क्षतिग्रस्त हुआ है। इसमें पाकिस्तानी सेना को जानी नुकसान भी हुआ होगा। हालांकि, देर रात तक नुकसान की पुष्टि नहीं हुई थी।

उड़ी स्थित सैन्याधिकारियों ने बताया कि केरन, करनाह, टंगडार, मच्छल और गुरेज सेक्टर में भी सभी अग्रिम चौकियों पर सतर्क रहने को कहा गया है। केरन घुसपैठ के बाद से ही पाकिस्तानी सेना द्वारा एलओसी पर गोलाबारी की आशंका बनी हुई थी। गोलाबारी की आड़ में स्वचालित हथियारों से लैस आतंकियों की घु़सपैठ की आशंका को नहीं नकारा जा सकता। बीते 12 दिनों उड़ी सेक्टर में पाकिस्तानी सेना द्वारा जंगबंदी के उल्लंघन की यह दूसरी घटना है। इससे पूर्व उड़ी सेक्टर में 26 मार्च को जंगबंदी का उल्लंघन हुआ था।

वहीं, जम्मू संभाग में एलओसी से सटे पुंछ जिले के मनकोट सेक्टर में भारतीय सेना की अग्रिम चौकियों के साथ रिहायशी क्षेत्रों को निशाना बनाकर गोलाबारी की। वहीं, पाकिस्तानी रेंजरों ने जम्मू संभाग में अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे कठुआ जिले के हीरानगर सेक्टर में सोमवार मध्य रात्रि पप्पू चक पोस्ट से भारतीय क्षेत्र में गोलीबारी की। इस दौरान चक चंगा, छन्नटाडा व करोल माथरिया गावों में मोर्टार दागे। यहां मंगलवार सुबह साढ़े चार बजे तक गोलाबारी होती रही।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस