संवाद सहयोगी, श्रीनगर : अनुच्छेद 35ए से कथित छेड़छाड़ के विरोध में अलगाववादी संगठनों के साझा मंच ज्वाइंट रेजिस्टेंस लीडरशिप (जेआरएल) की दो दिवसीय बंद की कॉल के चलते वीरवार को वादी में जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त रहा। उत्तर से लेकर दक्षिणी कश्मीर तक व्यापारिक प्रतिष्ठान, सरकारी व निजी कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान बंद रहे। यातायात भी ठप रहा। प्रशासन ने भी स्थिति को भांपते हुए संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए थे।

---------------

डाउन टाउन में अघोषित क‌र्फ्यू

शहर के डाउन टाउन इलाकों महाराजगंज, नौहट्टा, खानयार, रेनावाड़ी, सफाकदल व क्रालखोड़ इलाकों में स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए अघोषित क‌र्फ्यू लगाया गया। इन इलाकों की तरफ आने वाले रास्तों पर कंटीले तार लगाए गए ताकि लोग आ-जा न सकें।

------------------

अलगाववादी नेता रहे नजरबंद

बंद की कॉल के चलते प्रशासन ने मीरवाइज मौलवी उमर फारूक और सैयद अली शाह गिलानी समेत सभी अलगाववादी नेताओं को उनके घरों में नजरबंद कर दिया।

-------------------

बनिहाल-बारामुला रेल सेवा रही बंद

प्रशासन ने बंद की कॉल के मद्देनजर बनिहाल-बारामुला रेल सेवा वीरवार को एहतियात के तौर पर बंद रखी। अधिकारियों के अनुसार रेल सेवा 31 अगस्त को भी बंद रहेगी।

---------------

बंद के बीच प्रदर्शन

अनुच्छेद 35ए से कथित छेड़छाड़ के विरोध में वीरवार को वादी के कई हिस्सों में लोगों ने धरना प्रदर्शन किया। उत्तरी कश्मीर के टंगडार, करनाह और दक्षिणी कश्मीर के त्राल क्षेत्र में लोगों ने धरना प्रदर्शन किया।

Posted By: Jagran