राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : अवामी इत्तेहाद पार्टी के नेता बिलाल सुल्तान की रिहाई के बाद उपजेल एमएलए हॉस्टल में अब कोई भी मुख्यधारा की राजनीतिक से संबंध रखने वाला नेता या कार्यकर्ता एहतियातन हिरासत में नहीं है। यहां जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट के चेयरमैन डॉ. शाह फैसल, नेशनल कांफ्रेंस के हिलाल अकबर लोन और पीडीपी के मंसूर हुसैन समेत तीन नेता जरूर हैं, लेकिन यह सभी पीएसए के तहत बंदी हैं।

बिलाल सुल्तान को बुधवार रात को ही रिहा किया है। उन्हें भी पांच अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 का लागू किए जाने के मद्देनजर अन्य राजनीतिक नेताओं संग एहतियातन हिरासत में लिया था। बीते दिनों वह डिप्रेशन का भी शिकार हो गए थे। उन्हें उपचार के लिए रैनावारी स्थित अस्पताल में ले जाना पड़ा था। बिलाल ने 14 अक्टूबर 2019 को अदालत में याचिका दायर कर अपनी रिहाई का आदेश प्राप्त किया था, लेकिन पुलिस ने उन्हें सेंटूर होटल उपजेल परिसर में दोबारा हिरासत में ले लिया था। उन्हें नवंबर में अन्य राजनीतिक नेताओं संग उपजेल एमएलए हॉस्टल में स्थानांतरित किया था। उन्होंने फिर रिहाई के लिए अदालत में याचिका दी। तीन दिसंबर को जिला मजिस्ट्रेट श्रीनगर ने उनके पक्ष में फैसला सुनाया था। बावजूद प्रशासन ने दोबारा हिरासत में ले लिया था। बीती रात प्रशासन ने उन्हें एहतियातन हिरासत से मुकत करते हुए घर भेज दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस