संवाद सहयोगी, कालाकोट : कस्बे के मुख्य बस अड्डे पर पिछले दो माह से हैंडपंप खराब पड़ा हुआ है। इससे परेशान लोगों ने बुधवार को हैंडपंप के पास इकट्ठा होकर विभागीय कार्यप्रणाली के प्रति रोष व्यक्त किया। लोगों का कहना है कि इस कारण यहां आने वाले यात्रियों सहित दुकानदारों को पानी के संकट का सामना करना पड़ रहा है। लोगों का आरोप है कि लापरवाह विभागीय कार्यप्रणाली के कारण लोगों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है, मगर पानी की व्यवस्था करने के लिए कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।

दुकानदार निर्मल ¨सह, विकास चंदन, राकेश कुमार, रतन ¨सह, अजय कुमार, सोनू शर्मा, पप्पू आदि दुकानदारों ने कहा कि दो माह से दुकानदार हैंडपंप ठीक करवाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन कोई कदम नहीं गया। बाजार में पानी के संकट से दुकानदारों के साथ यहां आने वाले लोग परेशान हैं। कई बार विभागीय अधिकारियों को बाजार में पानी की समस्या के बारे में अवगत करवाया जा चुका है, मगर इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। मजबूर होकर लोगों को प्रदर्शन करना पड़ा है। प्रदर्शन के बाद लोगों ने एडीसी खालिद हुसैन को खराब हैंडपंप के बारे में जानकारी दी और उसे जल्द ठीक करवाने की मांग उठाई। एडीसी ने आश्वासन दिया कि दो-तीन दिन में हैंडपंप ठीक करवा कर बाजार में पानी की सप्लाई जारी की जाएगी। नौशहरा में पेयजल संकट

संवाद सहयोगी, नौशहरा : कस्बे के लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी की सप्लाई नहीं मिल रही है। इस कारण लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। लोगों बताया कि चालीस वर्ष पूर्व नौशहरा में पानी की सप्लाई बंद होने की सूरत में विभाग टैंकर की मदद से पानी की सप्लाई दी जाती थी। उस समय यहां कुंए भी थे। पानी की सप्लाई बंद होने की स्थिति में वहां से पानी की आपूर्ति की जाती थी। मगर अब दौर बदल चुका है। शहर की आबादी बढ़ गई, लेकिन सुविधाओं में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई। आए दिन शहर में पेयजल संकट पैदा हो जाता है। लोगों को निजी टैंकरों से पानी की सप्लाई लेनी पड़ रही है। लोगों ने मांग की है कि शहर में जल्द से जल्द पेयजल सप्लाई की व्यवस्था की जाए, ताकि लोगों को परेश आ रही परेशानी से निजात मिल सके। कुलडब्बी में पीने की कमी

संवाद सहयोगी, सुंदरबनी : कुलडब्बी बसाइयां में पिछले कई दिनों से पानी की सप्लाई नहीं आई है। प्राकृतिक जलस्त्रोतों पर लंबी-लंबी कतारें लगा कर लोग पानी की आपूर्ति कर रहे हैं। अशोक ¨सह दिलीप राज, कुलदीप शर्मा, अशोक कुमार के साथ अन्य ग्रामीणों ने बताया कि करीब एक माह से गांव में पेयजल सप्लाई नहीं आई है। लोगों को पानी की आपूर्ति के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने प्राकृतिक जलस्त्रोतों और बाबलियों पर कतारों में लगकर पानी हासिल कर पड़ रहा है, लेकिन अब यह भी सूखने की कगार पर पहुंच गए है। लोगों ने पीएचई विभाग से मांग की है कि गांव में पानी के टैंकर लगाकर पेयजल की सप्लाई दी जाए नहीं तो लोग एकजुट होकर विभाग के खिलाफ प्रदर्शन करने पर मजबूर हो जाएंगे।

Posted By: Jagran