जागरण संवाददाता, राजौरी : पाक सेना पिछले कुछ दिनों से सीमा पार से भारी गोलाबारी को जारी रखे हुए है। यह गोलाबारी उस समय की जा रही है जब कोरोना वायरस के डर से हर कोई परेशान है। लोग काम नहीं कर पा रहे हैं। दुकानें बंद हैं, बच्चों के स्कूल बंद हैं। इस दौरान सीमांत क्षेत्रों के लोग एक जगह से दूसरी जगह भी नहीं जा सकते, क्योंकि हर तरफ लॉकडाउन चल रहा है। इससे सीमांत क्षेत्रों में रहने वाले लोग कोरोना वायरस के साथ-साथ पाक गोलाबारी से भी सहमे हुए हैं।

पिछले एक माह से अधिक समय से पाक सेना ने अपनी गोलाबारी को काफी तेज कर दिया है। पाक सेना लगातार गोलाबारी कर रही है, जिसकी चपेट में आने से कई लोग घायल हो चुके हैं और कई मकान भी क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। पाक सेना पुंछ, राजौरी दोनों जिले के विभिन्न सेक्टरों के साथ घाटी के भी कुपवाड़ा जिले के सेक्टरों में भारी गोलाबारी करने के साथ आइबी भी गोलाबारी को जारी रखे हुए है। पाक सेना इस गोलाबारी की आड़ में आतंकवादियों को भारतीय क्षेत्र में दाखिल करवाने का प्रयास कर रही है, जिसे सीमा पर तैनात भारतीय सेना के जवान सफल नहीं होने दे रहे हैं। कुपवाड़ा सेक्टर में पाक सेना की गोलाबारी में तीन लोग मारे भी जा चुके हैं।

पुंछ के बालाकोट सेक्टर के रहने वाले अब्दुल मुश्ताक, केरी सेक्टर के बशीर अहमद, शाहपुर के मुहम्मद शौकत आदि ने कहा कि एक तरफ हम लोग कोरोना वायरस से बचने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। अपने घरों में कैद हैं, लेकिन इस दौरान पाक सेना भारी गोलाबारी करके हम लोगों की परेशानी बढ़ा रही है। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि हम लोग प्रशासन से सीमांत क्षेत्रों में जल्द से जल्द बंकर बनाने की मांग कर रहे है, लेकिन अभी तक हम लोगों के लिए बंकर नहीं बनाए गए हैं। इससे हम लोग पाक गोलाबारी के दौरान अपने आपको सुरक्षित भी नहीं रख पा रहे है। अब हम लोगों को समझ नहीं आ रहा कि हम कोरोना वायरस से बचें या फिर पाक सेना द्वारा दागे जा रहे गोलों से।

इस वर्ष पाक सेना 700 से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर चुकी है और हर बार भारतीय सेना द्वारा पाक सेना को मुंह तोड़ जवाब दिया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस